20 May 2015

Lyrics Of "Vishwarup (Title Song)" From Movie - Vishwaroop (2013)

Vishwarup
Lyrics Of Vishwarup (Title Song) From Vishwaroop (2013): Nice title song sung by Suraj Jagan featuring Kamal Haasan & Pooja Kumar

Singer: Suraj Jagan
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Javed Akhtar
Star Cast: Kamal Haasan, Pooja Kumar, Shekhar Kapur, Rahul Bose, Andrea Jeremiah, Jaideep Ahlawat


Lyrics of "Vishwarup (Title Song)"


dahka dahka sa lawa bahta tan man me sara
chhalka sayam ka pyala samay ne pukara
vishwarup vishwarup vishwarup
jwalamukhi si jwala, dahka dahka sa lawa
chhalka sayam ka pyala samay ne pukara vishwarup

kaun hai aur kya hai wo khud se bhi to juda hai wo
shakti ka rag hai wo bhadke to bas aag hi aag hai wo
roke se rukta nahi sar uska hai jhukta nahi
talwar hai teer hai wo, har jug me veero ka veer hai wo
dahka dahka sa lawa bahta tan man me sara
chalka sayam ka pyala samay ne pukara vishwarup

jadu banke hai chalta ek pal me hai sambhalta
karodh ka hai wo jharna agni ki hai wo dhara
vishwarup vishwarup vishwarup rup rup
vishwarup rup rup rup vishwarup rup rup rup
vishwarup rup rup rup vishwarup rup rup rup
dahka dahka sa lawa bahta tan man me sara
chalka sayam ka pyala samay ne pukara vishwarup
vishwarup vishwarup
jadu banke hai chalta ek pal me hai sambhalta
karodh ka hai wo jharna agni ki hai wo dhara
vishwarup vishwarup vishwarup rup rup

simte to jarra hai faile to aakash hai wo
koi todna chahe to uska sarav nash hai wo
kabhi naram ka jhoka hai kabhi jaise toofan hai wo
har rup nirala hai ek aisa insan hai wo
vishwarup rup rup rup vishwarup rup rup rup
vishwarup rup rup rup vishwarup rup rup rup
vishwarup rup rup rup


Lyrics in Hindi (Unicode) of "विश्वरूप (टाइटल सोंग)"



दहका दहका सा लावा बहता तन मन में सारा
छलका सायं का प्याला समय ने पुकारा
विश्वरूप विश्वरूप विश्वरूप
ज्वालामुखी सी ज्वाला, दहका दहका सा लावा
छलका संयम का प्याला समय ने पुकारा विश्वरूप

कौन है और क्या है वो खुद से भी तो जुदा है वो
शक्ति का राग है वो भड़के तो बस आग ही आग है वो
रोके से रुकता नहीं सर उसका है झुकता नहीं
तलवार है तीर है वो, हर जग में वीरो का वीर है वो
दहका दहका सा लावा बहता तन मन में सारा
छलका संयम का प्याला समय ने पुकारा विश्वरूप

जादू बनके है चलता एक पल में है संभलता
करोड़ का है वो झरना अग्नि की है वो धारा
विश्वरूप विश्वरूप विश्वरूप रूप रूप
विश्वरूप रूप रूप रूप विश्वरूप रूप रूप रूप
विश्वरूप रूप रूप रूप विश्वरूप रूप रूप रूप
दहका दहका सा लावा बहता तन मन में सारा
छलका संयम का प्याला समय ने पुकारा विश्वरूप
विश्वरूप विश्वरूप
जादू बनके है चलता एक पल में है संभलता
करोड़ का है वो झरना अग्नि की है वो धारा
विश्वरूप विश्वरूप विश्वरूप रूप रूप

सिमटे तो जर्रा है फैले तो आकाश है वो
कोई तोडना चाहे तो उसका सर्व नाश है वो
कभी नरम का झोका है कभी जैसे तूफ़ान है वो
हर रूप निराला है एक ऐसा इन्सान है वो
विश्वरूप रूप रूप रूप विश्वरूप रूप रूप रूप
विश्वरूप रूप रूप रूप विश्वरूप रूप रूप रूप
विश्वरूप रूप रूप रूप

No comments:

Post a comment