12 June 2015

Lyrics Of "Baadalo Pe" From Movie - Kucch Luv Jaisaa (2011)

Baadalo Pe
Baadalo Pe
Lyrics Of Baadalo Pe From Movie - Kucch Luv Jaisaa (2011):  A Playful Song sung by Mannan Shaah Featuring Rahul Bose and Shefali Shah.

Singer: Mannan Shaah
Music: Pritam Chakraborty
Lyrics: Irshad Kamil
Star Cast: Rahul Bose, Shefali Shah, Neetu Chandra, Sumeet Raghavan, Manmeet Singh, Kunal Kumar, Amin Hajee, Om Puri




The Video of this song is available on youtube at the Channel T-Series. The Video is of 2 minutes and 15 seconds duration.




Lyrics of "Baadalo Pe"



baadlo pe pao rakh ke aasma ko chhu liya
jo kabhi kiya na tha wo aaj maine kiya
rahi na koi aarzu paya hai lo maine suku
khwaisho ke haath me sonp di hai zindagi
khub hai, khaas hai, ab khwaab si hai zindagi

aise maine dekhe raaste wo
jo na bane the mere vaste wo
ujalo ki thi ose jinpe ye hosh jinpe tha lapata
mere hatho se dil jhutha aise
mera na ho ye ho mitana jaise
kabhi na sochi thi jo wo
huyi hai thodi si nayi hai khata
khwaisho ke haath me sonp di hai zindagi
khub hai, khaas hai, ab khwaab si hai zindagi

sawaalo me sau baate jhaakte wo
khayalo se bhi aage bhagte wo
guzar ki jo pyari kar ke ikraar karke maine yaha
udane hai tabhi to aasman hai
yahi kahi pe aisa bhi jahaan hai
khayalo me jo roz aaye, jo roz jaye vaisa jaha
khwaisho ke haath me sonp di hai zindagi
khub hai, khaas hai, ab khwaab si hai zindagi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "बादलों पे"



बादलो पे पाओ रख के आसमा को छू लिया
जो कभी किया ना था  वो आज मैंने किया
रही ना कोई आरजू पाया हैं लो मैंने सुकून
ख्वाइशो के हाथ में, सोंप दी हैं मैंने जिंदगी
खूब हैं, ख़ास है, अब ख्वाब सी है जिदंगी

ऐसे मैंने देखे रास्ते वो
जो ना बने थे मेरे वास्ते वो
उजालो की थी ओसे जिनपे ये होश जिनपे था लापता
मेरे हाथो से दिल झूठा ऐसे
मेरे ना हो ये मिटाना जैसे
कभी ना सोची थी जो वो
हुयी है थोड़ी सी नयी है खता
ख्वाइशो के हाथ में, सोंप दी हैं मैंने जिंदगी
खूब हैं, ख़ास है, अब ख्वाब है जिदंगी

सवालो में सो बाते झांकते वो
खयालो से भी आगे भागते वो
गुजर की जो प्यारी कर के इकरार करके मैंने यहाँ
उड़ाने हैं तभी तो आसमान हैं
यही कही पे ऐसा भी जहाँ है
ख्यालो में रोज आये, जो रोज जाए वैसा जहाँ
ख्वाइशो के हाथ में सोंप दी हैं मैंने जिंदगी
खूब हैं, ख़ास है, अब ख्वाब है जिदंगी

No comments:

Post a comment