28 June 2015

Lyrics Of "Chand Pal Ke Hamsafar" From Movie - Mod (2011)

Chand Pal Ke Hamsafar
Chand Pal Ke Hamsafar
Lyrics Of Chand Pal Ke Hamsafar From Movie - Mod (2011):  A Love song sung by Shreya Ghoshal and Shankar Mahadevan Featuring Ayesha Takia, Rannvijay Singh and Raghuvir Yadav

Singers: Shreya Ghoshal, Shankar Mahadevan
Music: Tapas Relia
Lyrics: Mir Ali Husain
Star Cast: Ayesha Takia, Rannvijay Singh, Raghuvir Yadav





The Video of this song is available on Youtube at the official Channel KhanHDMusicVideos. The Video is of 3 minutes and 26 seconds duration.






Lyrics of "Chand Pal Ke Hamsafar"



aadhi adhuri ye dastan thi, abhi tamanna bhi bezuban thi
aadhi adhuri ye dastan thi, abhi tamanna bhi bezuban thi
ye pyaas dil ki bujhi kaha thi
ye pyaas dil ki bujhi kaha thi
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
do kadam hi sahi kuch aur saath chalte
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
do kadam hi sahi kuch aur saath chalte
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
aadhi adhuri ye dastan thi abhi tamanna bhi
abhi tamanna bhi bezuban thi, bezuban thi

hai tarasti ye nigaahe dil bharta hai aahe
nahi koi chahat jo laut aaye, jo laut aaye
tu kaid me hai apni main bhi bandhi hu
tute huye insano pe aakhir itna sitam kyu
haq tha mera jin par wahi
haq tha mera jin par wahi
khushiya bhi mujhe na mili
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
do kadam hi sahi kuch aur saath chalte
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
aadhi adhuri ye dastan thi, abhi tamanna bhi bezuban thi

khushbu tere sanso ki faili yaha hai
jaha chalu tera saya hai humdum, par tu kaha hai
manzil to thi bus do kadam
manzil to thi bus do kadam, muh mod gaya hai kyu
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte
do kadam hi sahi kuch aur saath chalte
chand pal ke hamsafar kuch aur saath chalte, aadhi adhuri
aadhi adhuri ye dastan thi, abhi tamanna bhi bezuban thi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "चंद पल के हमसफ़र"



आधी अधूरी ये दास्ताँ थी, अभी तमन्ना भी बेजुबान थी
आधी अधूरी ये दास्ताँ थी, अभी तमन्ना भी बेजुबान थी
ये प्यास दिल की भुजी कहा थी
ये प्यास दिल की भुजी कहा थी
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
दो कदम ही सही कुछ और साथ चलते
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
दो कदम ही सही कुछ और साथ चलते
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
आधी अधूरी ये दास्ताँ थी अभी तमन्ना भी
अभी तमन्ना भी बेजुबान थी, बेजुबान थी

हैं तरसती ये निगाहें दिल बरता हैं आहे
नहीं कोई चाहत जो लौट आये, जो लौट आये
तू कैद में है अपनी मैं भी बंधी हु
टूटे हुए इंसानों पे आखिर इतना सितम क्यू
हक़ था मेरा जिन पर वही
हक़ था मेरा जिन पर वही
खुशिया भी मुझे ना मिली
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
दो कदम ही सही कुछ और साथ चलते
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
आधी अधूरी ये दास्ताँ थी, अभी तमन्ना भी बेजुबान थी

खुशबु तेरे सांसो की फैली यहाँ हैं
जहाँ चालू तेरा साया हैं हमदम, पर तू कहा हैं
मंजिल तो थी बस दो कदम
मंजिल तो थी बस दो कदम, मुह मोड़ गया हैं क्यू
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते
दो कदम ही सही कुछ और साथ चलते
चंद के हमसफ़र कुछ और साथ चलते, आधी अधूरी
आधी अधूरी ये दास्ताँ थी, अभी तमन्ना भी बेजुबान थी

No comments:

Post a comment