28 June 2015

Lyrics Of "Hum Tum" From Himesh Reshammiya's Movie - Damadamm! (2011)

Hum Tum
Hum Tum
Lyrics Of Hum Tum From Movie - Damadamm! (2011):  A Beautiful Love song  Featuring Himesh Reshammiya and Purbi Joshi.

Singers:Himesh Reshammiya, Vaishali Made
Music: Himesh Reshammiya
Lyrics: Sameer
Star Cast: Himesh Reshammiya, Sonal Sehgal, Purbi Joshi, Rajesh Khattar, Ruzaan Bharucha





The Video of this song is available on Youtube at the official Channel KhanHDMusicVideos. The Video is of 3 minutes and 58 seconds duration.







Lyrics of "Hum Tum"



sajna aaja, sajna aaja
hum tum, train ki so patri ki tarah
hum tum, train ki do patri ki tarah
chalte rahe saath saath, milne ki tamanna me
dil janta nahi milenge par ik ummeed hai jo tootti nahi
meri jaan
hum tum, train ki so patri ki tarah
chalte rahe saath saath, milne ki tamanna me
dil jaanta nahi milenge par ik ummeed hai jo tootti nahi
meri jaan hum tum, sajna aaja sajna aaja

zindagi hai badi ajnabi jaan sake issko na hum kabhi
sajna aaja
zindagi hai badi ajnabi jaan sake issko na hum kabhi
ankahi, ansuni, anbhuji, sajna
hum tum, train ki so patri ki tarah
chalte rahe saath saath milne ki tamanna me
dil jaanta nahin milenge par ik ummeed hai jo tootti nahi

keh rahe har ghadi fasle woh bhi kya din the jab hum mile
sajna, sajna aaja
keh rahe har ghadi fasle woh bhi kya din the jab hum mile
woh raatse, manzile, silsile, sajna
hum tum, train ki so patri ki tarah
chalte rahe saath saath milne ki tamanna me
dil jaanta nahi milenge par ik ummeed hai jo tootti nahi
meri jaan, ajna, sajna aaja


Lyrics in Hindi (Unicode) of "हम तुम"



सजना आजा, सजना आजा
हम तुम ट्रेन की सो पटरीयो की तरह
हम तुम ट्रेन की सो पटरीयो की तरह
चलते रहे साथ साथ, मिलने की तमन्ना में
दिल जनता नहीं मिलेंगे पर इक उम्मीद हैं जो टूटती नहीं
मेरी जान
हम तुम ट्रेन की सो पटरीयो की तरह
चलते रहे साथ साथ मिलने की तमन्ना में
दिल जनता नहीं मिलेंगे, पर उम्मीद हैं जो टूटती नहीं
मेरी जान हम तुम, सजना आजा सजना आजा

जिंदगी हैं बड़ी अजनबी, जान सके इसको न हम कभी
सजना आजा
जिंदगी हैं बड़ी अजनबी, जान सके इसको न हम कभी
अनकही अनसुनी अन्भूजी सजना
हम तुम ट्रेन की सो पटरीयो की तरह
चलते रहे साथ साथ, मिलने की तमन्ना में
दिल जनता नहीं मिलेंगे, पर उम्मीद हैं, जो टूटती नहीं

कह रहे हर गाड़ी फासले वो भी क्या दिन थे जब हम मिले
सजना सजना आजा
कह रहे हर गाड़ी फासले वो भी क्या दिन थे जब हम मिले
वो रास्ते, मंजिले, सिलसिले, सजना
हम तुम ट्रेन की सो पटरीयो की तरह
चलते रहे साथ साथ मिलने की तमन्ना में
दिल जनता, नहीं मिलेंगे, पर उम्मीद हैं, जो टूटती नहीं
मेरी जान, सजना सजना आजा

No comments:

Post a comment