29 June 2015

Lyrics Of "Ishk Hai Yeh Behaya" From Movie - Ek Main Ek Tum (2010)

 Ishk Hai Yeh Behaya
 Ishk Hai Yeh Behaya
Lyrics Of Ishk Hai Yeh Behaya From Movie - Ek Main Ek Tum (2010): A rock song sung by Sonu Kakkar & music composed by Bali Brahmbhatt.

Singer: Sonu Kakkar
Music: Bali Brahmbhatt
Lyrics: Ravi Chopra
Star Cast: Kiran Bhatia, Chahat Khanna, Rana Jung Bahadur, Monalisa, Rahul Raj, Vishwajeet Pradhan.




Lyrics of "Ishk Hai Yeh Behaya"


kamina hai yeh kambakht hai
nikamma nigora bebakht hai
mile ishq ko kya kya khitab
magar ishq kya hai ab hamse suniye janab

sau bar dil se nikala ise, kya kya nahi keh dala ise
besharm hai baz aata nahi, kis kis bahane se tala ise
phir bhi na dil se gaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
sau bar dil se nikala ise, kya kya nahi keh dala ise
besharm hai baz aata nahi, iss kis bahane se tala ise
phir bhi na dil se gaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya

ankho ke raste se sanso me ata hai
phir dil pe kabja jamata hai yeh
do char din mauj masti karata hai
khwabo ki duniya dikhata hai yeh
ashik ko hanske petata hai yeh
wado ke gane bichhata hai yeh
shatir shikari hai phir pyar se
milke hi mauka phasata hai yeh, koyi parinda naya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya

behaya mitha jeher hai yeh, ang leher hai yeh
iske lapete me aana na tu
awara badal hai thoda sa pagal hai
isko kabhi muhn lagana na tu
badnamiyo se yeh darta nahi
logo ki parwah karta nahi
bachpan se bighra huwa hai muaa
kuchh bhi kaho par sudharta nahi
arre aye na isko haya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya

sau bar dil se nikala ise, kya kya nahi keh dala ise
besharm hai baz aata nahi, is kis bahane se tala ise
phir bhi na dil se gaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya, besharm behaya
ishq hai yeh behaya


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इश्क है ये बेहया"


कमीना है ये कमबख्त है
निकम्मा निगोड़ा बेबख्त है
मिले इश्क को क्या क्या ख़िताब
मगर इश्क क्या है अब हमसे सुनिए जनाब

सौ बार दिल से निकाला इसे, क्या क्या नही कह डाला इसे
बेशर्म है बाज़ आता नही, किस किस बहाने से टाला इसे
फिर भी ना दिल से गया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
सौ बार दिल से निकाला इसे, क्या क्या नही कह डाला इसे
बेशर्म है बाज़ आता नही, किस किस बहाने से टाला इसे
फिर भी ना दिल से गया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया

आँखों के रास्ते से सांसो में आता है
फिर दिल पे कब्जा जमाता है ये
दो चार दिन मौज मस्ती कराता है
ख्वाबों की दुनिया दिखाता है ये
आशिक को हँसके पटाता है ये
वादों के गाने बिछाता है ये
शातिर शिकारी है फिर प्यार से
मिलके ही मौका फसाता है ये, कोई परिंदा नया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया

बेहया मीठा जहर है ये, अंग लहर है ये
इसके लपेटे में आना ना तू
आवारा बादल है थोडा सा पागल है
इसको कभी मुहँ लगाना ना तू
बदनामियों से ये डरता नही
लोगो की परवाह करता नही
बचपन से बिगड़ा हुआ है मुआ
कुछ भी कहों पर सुधरता नही
अरे आये ना इसको हया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया

सौ बार दिल से निकाला इसे, क्या क्या नही कह डाला इसे
बेशर्म है बाज़ आता नही, किस किस बहाने से टाला इसे
फिर भी ना दिल से गया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया, बेशर्म बेहया
इश्क है ये बेहया

No comments:

Post a comment