29 June 2015

Lyrics Of "Kisne Pehchana" From Movie - Gumshuda (2010)

Kisne Pehchana
Kisne Pehchana
Lyrics Of Kisne Pehchana From Movie - Gumshuda (2010): A song sung by June Bannerjee & music composed by Bikram Ghosh.

Singer: June Bannerjee
Music: Bikram Ghosh
Lyrics: Rakesh Tripathi
Star Cast: Rajat Kapoor, Victor Banerjee, Priyanshu Chatterjee, Simone Singh, Raj Zutshi, N. Viswanathan, Rachna Shah.




Lyrics of "Kisne Pehchana"


kisne pehchana khel man ka anjana
kisne pehchana khel man ka anjana
chand taaro se aage aage chalta man
manjilo pe bhi jake kaha rukta man
chand taaro se aage aage chalta man
manjilo pe bhi jake kaha rukta man
kisne pehchana khel man ka anjana
kisne pehchana khel man ka anjana

zindgi jake jaha rukati phir wahi se
banti rahe nayi
diwane jab jaha ye sataye man hi hai jo
jag aaye chahe nayi
kisne pehchana khel man ka anjana
kisne pehchana khel man ka anjana

sun sach hai kaha mere yaar tu karna nahi ye eitbar
adha sach dikhlaye duniya najro ko baar baar
adha sach dikhlaye duniya najro ko baar baar
sun sach hai kaha mere yaar tu karna nahi ye etbaar
har rishta begana hai jhuta ye jamana
har rishta begana hai jhuta ye jamana
par phir bhi naye sapne dekhe ye man
maan le na tu jo bhi kahe tera man
kisne pehchana khel man ka anjana
kisne pehchana khel man ka anjana

jayda kabhi kabhi kam jo dikhta hai sab hai bharam
chhupe nakabo ke hai andar bewafa sare sanam
chhupe nakabo ke hai andar bewafa sare sanam
jayda kabhi kabhi kam jo dikhta hai sab hai bharam
lekin aakhe mila lo ud ke na chale jana
lekin aakhe mila lo ud ke na chale jana
par phir bhi naye sapne dekhe ye man
man le na tu jo bhi kahe tera man
kisne pehchana khel man ka anjana
chand taaro se aage aage chalta man
manjilo pe bhi jake kaha rukta man
chand taaro se aage aage chalta man
manjilo pe bhi jake kaha rukta man
kisne pehchana khel man ka anjana
kisne pehchana khel man ka anjana


Lyrics in Hindi (Unicode) of "किसने पहचाना"


किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
चाँद तारो से आगे आगे चलता मन
मंजिलो पे भी जाके कहा रुकता मन
चाँद तारो से आगे आगे चलता मन
मंजिलो पे भी जाके कहा रुकता मन
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना

जिंदगी जाके जहाँ रूकती फिर वही से
बनती राहे नयी
दीवाने जब जहा ये सताए मन ही है जो
जग आये चाहे आये
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना

सुन सच हैं कहा मेरे यार तू करना नहीं ये ऐतबार
आधा सच दिखलाए दुनिया नजरो को बार बार
आधा सच दिखलाए दुनिया नजरो को बार बार
सुन सच है कहा मेरे यार तू करना नहीं ये ऐतबार
हर रिश्ता बेगाना हैं झूठा ये जमाना
हर रिश्ता बेगाना हैं झूठा ये जमाना
पर फिर भी नए सपने देखे ये मन
मान ले ना तू जो भी कहे देखे ये मन
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना

ज्यादा कभी कम जो दीखता है सब हैं भरम
छुपे नकाबो के हैं अन्दर बेवफा सारे सनम
छुपे नकाबो के हैं अन्दर बेवफा सारे सनम
ज्यादा कभी कभी कम जो दिखता हैं सब हैं भरम
लेकिन आँखे मिला लो उड़ के ना चले जाना
लेकिन आँखे मिला लो उड़ के ना चले जाना
पर फिर भी नए सपने देखे ये मन
मान ले ना तू जो भी कहे तेरा मन
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
चाँद तारो से आगे आगे चलता मन
मंजिलो पे भी जाके कहा रुकता मन
चाँद तारो से आगे आगे चलता मन
मंजिलो पे भी जाके कहा रुकता मन
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना
किसने पहचाना खेल मन का अनजाना

No comments:

Post a comment