23 June 2015

Lyrics Of "Kya Hawa Kya Baadal" From Movie - Allah Ke Banday (2010)

Kya Hawa Kya Baadal
Kya Hawa Kya Baadal
Lyrics Of Kya Hawa Kya Baadal From Movie - Allah Ke Banday (2010): A motivational song sung by Kailash Kher featuring him in the song video.

Singer: Kailash Kher
Music: Kailash Kher, Naresh Paresh,
Lyrics: Kailash Kher
Star Cast: Sharman Joshi, Faruk Kabir, Naseruddin Shah, Atul Kulkarni, Anjana Sukhani, Rukhsaar Rehman, Zakir Hussain.



The video of this song is available on youtube at the official channel Cinecurry. This video is of 3 minutes 35 seconds duration.


Lyrics of "Kya Hawa Kya Baadal"


kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
tu hi to hai sab me hai teri chaya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
tu hi to hai sab me hai teri chaya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar

kahi bhole bhole mukhre kahi khushiya to kahi dukhre
tu hai rango ka jharoka ya hai nazro ka dhoka
tu hai rango ka jharoka ya hai nazro ka dhoka
jab teri kirpa se hai duniya ke dam me dam dam
jab teri kirpa se hai duniya ke dam me dam dam
phir kyu hai ye hahakari phir kyu hai ye matam
sab allah ke bande, sab allah ke bande
jeevan sukha jaye jaye badhe dino din gham gham
aap kare din raat kare phir bhi kehlaye hum
sab allah ke bande, sab allah ke bande
apni nazar ghuma sara jag hai badguma
apni nazar ghuma sara jag hai badguma
hum hai nadan hum kya jane teri maya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
tu hi to hai sab me hai teri chaya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar

kahi nila hai kahi pila duniya ka rang sajila
tere rang nirale tere dhang nirale
tere rang nirale tere dhang nirale
tera gorakh dhanda data samajh na paye hum
tere roop anokhe tu hi haua aur aadam
sab allah ke bande, sab allah ke bande
apni nazar ghuma sara jag hai badguma
apni nazar ghuma sara jag hai badguma
hum hai nadan hum kya jane teri maya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
kya parbat kya sagar kya basti kya jungle
tu hi to hai sab me hai teri chaya
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar
kya hawa kya badal kya dharti kya ambar


Lyrics in Hindi (Unicode) of "क्या हवा क्या बादल"

 
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
तू ही तो है सब में है तेरी छाया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
तू ही तो है सब में है तेरी छाया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर

कहीं भोले भोले मुखड़े कही खुशिया तो कही दुखड़े
तू है रंगों का झरोका या हैं नजरो का धोखा
तू है रंगों का झरोका या हैं नजरो का धोखा
जब तेरी कृपा से हैं दुनिया के दम में दम दम
जब तेरी कृपा से हैं दुनिया के दम में दम दम
फिर क्यों है ये हाहाकारी फिर क्यू हैं ये मातम
सब अल्ला के बन्दे, सब अल्ला के बन्दे
जीवन सुखा जाये जाए बढे दिनों दिन ग़म ग़म
आप करे दिन रात करे फिर भी कहलाये हम
सब अल्ला के बन्दे, सब अल्ला के बन्दे
अपनी नजर घुमा सारा जग हैं बदगुमा
अपनी नजर घुमा सारा जग हैं बदगुमा
हम हैं नादान हम क्या जाने तेरी माया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
तू ही तो है सब में है तेरी छाया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर

कहीं नीला हैं कही पिला दुनिया का रंग सजीला
तेरे रंग निराले तेरे ढंग निराले
तेरे रंग निराले तेरे ढंग निराले
तेरा गोरख धंधा दाता समझ ना पाए हम
तेरे रूप अनोखे तू ही हुउवा और आदम
सब अल्ला के बन्दे, सब अल्ला के बन्दे
अपनी नजर घुमा सारा जग हैं बदगुमा
अपनी नजर घुमा सारा जग हैं बदगुमा
हम हैं नादान हम क्या जाने तेरी माया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
क्या पर्वत क्या सागर क्या बस्ती क्या जंगल
तू ही तो है सब में है तेरी छाया
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर
क्या हवा क्या बादल क्या धरती क्या अम्बर

No comments:

Post a comment