27 June 2015

Lyrics Of "Stupid Pyaar" From Movie - Ye Stupid Pyar (2011)

Stupid Pyaar
Stupid Pyaar
Lyrics Of Stupid Pyaar From Movie - Ye Stupid Pyar (2011):  A Title song sung by Shreya Ghoshal and Vipin Patwa Featuring Jatin Khurana and Noopur Patwardhan.

Singer: Shreya Ghoshal, Vipin Patwa
Music: Vipin Patwa
Star Cast: Jatin Khurana, Noopur Patwardhan, Akansha Shivhare








Lyrics of "Stupid Pyaar"



aa gaya kyu wahi socha nahi tha jaha
use phir dhundungi, khoungi aisa kyu ho raha
tere liye na jane kyu aisa ahsas hai
fasle bahut hai lekin tu kitni paas hai
kaisi bewkufi hai anchahi doori hai ye
janu main na janu main, khwab kyu sajana chahe
lamho ko pana chahe hai stupid pyaar mera
kaisi bewkufi hai ye anchahi doori hai ye
janu main na janu main, khwab kyu sajana chahe
ho ho lamho ko pana chahe hai stupid pyaar mera

khyalo me yaado ki jo dhupe utarti hai
teri parchaiya hi sath mere chalti hai
palko pe khwaab kabhi mere jo sajte hai
raato ko kaate bankar neendo me chubte hai
kyu kuch pighalata hai abhi mere sine me
kyu itni hoti mujhko taklif jeene me
kaisi bewkufi hai anchahi doori hai ye
janu main na janu main, khwab kyu sajana chahe
lamho ko pana chahe hai stupid pyaar mera
kaisi bewkufi hai anchahi doori hai ye
janu main na janu main, khwab kyu sajana chahe
ho ho lamho ko pana chahe hai stupid pyaar mera
kaisi bewkufi hai anchahi doori hai ye
janu mai, na janu main, khwab kyu sajana chahe
ho ho lamho ko pana chahe hai stupid pyar mera

 

Lyrics in Hindi (Unicode) of "स्ट्यूपीड प्यार"



आ गया क्यों वहां सोचा नहीं था जहा
उसे फिर ढूडुंगी, खोउंगी ऐसा क्यों हो रहा
तेरे लिए ना जाने क्यों ऐसा एहसास है
फासले बहुत हैं लेकिन तू कितनी पास हैं
कैसी बेवकूफी है ये अनचाही दुरी हैं ये
जानू मैं ना जानू मैं, ख्वाब क्यों सजाना चाहे
लम्हों को पाना चाहे हैं स्टुपिड प्यार मेरा
कैसी बेवकूफी है ये अनचाही दुरी हैं ये
जानू मैं ना जानू मैं, ख्वाब क्यों सजाना चाहे
हो हो लम्हों को पाना चाहे हैं स्टुपिड प्यार मेरा

ख्यालो में यादो की जो धुपे उतरती है
तेरी परछाइया ही साथ मेरी चलती हैं
पलकों पे ख्वाब कभी मेरे जो सजते है
रातो को काटे बनकर नींदों में चुबते है
क्यू कुछ पिगालाता हा अभी मेरे सीने में
क्यों होती इतनी मुझको तकलीफ जीने में
कैसी बेवकूफी है ये अनचाही दुरी हैं ये
जानू मैं ना जानू मैं, ख्वाब क्यों सजाना चाहे
लम्हों को पाना चाहे हैं स्टुपिड प्यार मेरा
कैसी बेवकूफी है ये अनचाही दुरी हैं ये
जानू मैं ना जानू मैं, ख्वाब क्यों सजाना चाहे
हो हो लम्हों को पाना चाहे हैं स्टुपिड प्यार मेरा
कैसी बेवकूफी है ये अनचाही दुरी हैं ये
जानू मैं ना जानू मैं, ख्वाब क्यों सजाना चाहे
हो हो लम्हों को पाना चाहे हैं स्टुपिड प्यार मेरा





No comments:

Post a comment