14 July 2015

Lyrics Of "Aye Dost" From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010)

Aye Dost
Aye Dost
Lyrics Of Aye Dost From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010): A motivational song sung by Ranjit Barot and lyrics penned by Mehboob Kotwal.

Singer: Ranjit Barot
Music: Ranjit Barot
Lyrics: Mehboob Kotwal
Star Cast: Gashmir Mahajani, Twinkle Patel, Hiten Paintal, Sunil Sabarwal, Simran Suri.





Lyrics of "Aye Dost"


aye dost hass ke zara sab se mil
toofan hi mile ya sahil
khafa hone se kya hasil, hass ke tu mil
ye duniya ka khela hai haar jit ka rela
tu har hal mein gaate jana
aye dost hass ke zara sab se mil
hass ke tu mil

thokar se kanpe chalenge phir kya
anjam soche padenge phir kya
gum se jo seheme hassenge phir kya
jane ka darr ho jiyenge phir kya
ye duniya haiwani par jina hai phir bhi jani
tu har haal mein gaate jana
aye dost hass ke zara sab se mil
hass ke tu mil

ye zindagi hai hassi rehguzar
gum aur khushi raah mein do shehar
dono mein kuch pal to thehrega tu
behtar hai gum se bhi hass ke guzar
hai do lakh abhi basha ye ajab ajab tamasha
tu har haal mein gaate jana
aye dost hass ke zara sab se mil
hass ke tu mil

naakaami ko tu hairaan kar
maayusiyon ko pareshaan kar
himmat ka apani hi le imtihaan
kuchh pal andhera ho bilkul na darr
ho roshan yeh chehra bas khila khila sa yaara
tu har haal mein gaate jaana ho
aye dost hass ke jara sabse mil
toofan hi mile ya sahil
khafa hone se kya hasil, hass ke tu mil
ye duniya ka khela hai haar jit ka rela
tu har haal mein gaate jana
aye dost hass ke zara sab se mil
hass ke tu mil


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ए दोस्त"



ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
तूफ़ान ही मिले या साहिल
खफा होने से क्या हासिल, हस के तू मिल
ये दुनिया का खेला है हार जीत का रेला
तू हर हाल में गाते जाना
ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
हस के तू मिल

ठोकर से कापे चलेंगे फिर क्या
अंजाम सोचे पड़ेंगे फिर क्या
गम से जो सहमे हसेंगे फिर क्या
जाने का डर हो जियेंगे फिर क्या
ये दुनिया हैवानी पर जीना है फिर भी जानी
तू हर हाल में गाते जाना
ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
हस के तू मिल

ये जिंदगी है हसि रेह्गुज़र
गम और ख़ुशी राह में दो शहर
दोनों में कुछ पल तो ठहरेगा तू
बेहतर है गम से भी हस के गुज़र
हैं दो लाख अभी बाशा ये अजब अजब तमाशा
तू हर हाल में गाते जाना
ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
हस के तू मिल

नाकामी को तू हैंरान कर
मायूसियों को परेशान कर
हिम्मत का अपनी ही ले इम्तिहान
कुछ पल अँधेरा हो बिलकुल ना डर
हो रोशन ये चेहरा बस खिला खिला सा यारा
तू हर हाल में गाते जाना
ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
तूफ़ान ही मिले या साहिल
खफा होने से क्या हासिल, हस के तू मिल
ये दुनिया का खेला है हार जीत का रेला
तू हर हाल में गाते जाना
ए दोस्त हस के ज़रा सब से मिल
हस के तू मिल

No comments:

Post a comment