14 July 2015

Lyrics Of "Tumse Aankh Lagaee" From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010)

 Tumse Aankh Lagaee
 Tumse Aankh Lagaee
Lyrics Of Tumse Aankh Lagaee From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010): A pop song sung by Raja Mushtaq and music composed by Ranjit Barot.

Singer: Raja Mushtaq
Music: Ranjit Barot
Lyrics: Nasir Nizami
Star Cast: Gashmir Mahajani, Twinkle Patel, Hiten Paintal, Sunil Sabarwal, Simran Suri.




The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 15 seconds duration.


Lyrics of "Tumse Aankh Lagaee"


jab se maine tumse aankh lagaee hai
jab se maine tumse aankh lagaee hai
o ek pal bhi, o ek pal bhi maine na aankh lagaee
maine na aankh lagaee, maine na aankh lagaee hai
jab se maine tumse aankh lagaee hai
jab se maine tumse aankh lagaee hai

ishq to hai zakhmon ka gehna
o jis jis ne bhi isko pehna
hua sadaa woh saudai hai, hua sadaa
hua sadaa woh saudai hai
o ek pal bhi, o ek pal bhi maine na aankh lagaee
maine na aankh lagaee hai, jab se maine

ishq to hai ik naag sunehra
ho aankhon se andha, kaanon se behra
iske dasse ki na dawai hai, iske dasse
iske dasse ki na dawai hai
o ek pal bhi, o ek pal bhi maine na aankh lagaee
maine na aankh lagaee hai, jab se maine

ishq to hai ik aanch suhani
ho chhune to aag hai dikhne ko paani
iske jale ki duhai hai, isske jale ki
iske jale ki duhai hai
o ek pal bhi, o ek pal bhi maine na aankh lagaee
maine na aankh lagaee hai, jab se maine

jism hai tera phool ki daali
dekh ke tere roop ki laali
chaandni bhi sharamayi hai, chaandni bhi
chaandni bhi sharamayi hai
o ek pal bhi, o ek pal bhi maine na aankh lagaee
maine na aankh lagaee hai, maine na aankh lagaee hai
jab se maine tumse aankh lagaee hai
jab se maine tumse aankh lagaee hai

Lyrics in Hindi (Unicode) of "तुमसे आँख लगाई"



जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं
जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं
ओ एक पल भी, ओ एक पल भी मैंने ना आँख लगाई
मैंने ना आँख लगाई, मैंने ना आँख लगाई हैं
जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं
जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं

इश्क तो हैं ज़ख्मो का गहना
ओ जिस जिस ने भी इसको पहना
हुआ सदा वो सौदाई हैं, हुआ सदा
हुआ सदा वो सौदाई हैं
ओ एक पल भी, ओ एक पल भी मैंने ना आँख लगाई
मैंने ना आँख लगाई हैं, जब से मैंने

इश्क तो हैं इक नाग सुनेहरा
हो आँखों से अँधा, कानो से बहरा
इसके डसे की ना दवाई हैं, इसके डसे
इसके डसे की ना दवाई हैं
ओ एक पल भी, ओ एक पल भी मैंने ना आँख लगाई
मैंने ना आँख लगाई हैं, जब से मैंने

इश्क तो हैं इक आँच सुहानी
हो छूने तो आग हैं दिखने को पानी
इसके जले की दुहाई हैं, इसके जले की
इसके जले की दुहाई हैं
ओ एक पल भी, ओ एक पल भी मैंने ना आँख लगाई
मैंने ना आँख लगाई हैं, जब से मैंने

जिस्म हैं तेरा फूल की डाली
देख के तेरे रूप की लाली
चाँदनीं भी शरमाई हैं, चाँदनीं भी
चाँदनीं भी शरमाई हैं
ओ एक पल भी, ओ एक पल भी मैंने ना आँख लगाई
मैंने ना आँख लगाई हैं, मैंने ना आँख लगाई हैं
जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं
जब से मैंने तुमसे आँख लगाई हैं

No comments:

Post a comment