30 July 2015

Lyrics Of "Bajao Zor Se Tali (Version 1)" From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013)

Bajao Zor Se Tali (Version 1)
Bajao Zor Se Tali (Version 1)
Lyrics Of Bajao Zor Se Tali (Version 1) From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013): A playful song sung by Sukhwinder Singh and music composed by Advait Nemlekar.

Singer: Sukhwinder Singh
Music: Advait Nemleka
Lyrics: Ram Ramesh Sharma
Star Cast: Chandrahas Tiwari, Alok Chaturvedi, Megh Pant, Joydip Mukhopadhyay.



The video of this song is available on YouTube.

Lyrics of "Bajao Zor Se Tali (Version 1)"


dil waale bose udaao maddham si hansi girao
buth kyun bane pade ho rindh sa mahek jaao
kaath me gaad do killi maachis par ghis do tilli
yu to pheeki thi hawa maine kaifi kar daali
paunchh ghaflat ki laali bajao zor se taali
gam ko de dena gaali bajaao zor se taali
taali ke baad taali bajaao zor se taali

hai saat makaan sargam ke inme rehte sufi hai
mere yaar hai, dildaar hai
rooh ki tafri, zam-zam ki gaar hai
har dhun ko ishqe waali phasle baati hai
hotho se sehla sehla nazini ki baaliya kaati hai
ha bulla ke harfo par marne wali bawli matwali
bajao zor se taali
ha Shehad ki shehar waali bajao zor se taali
taali ke baad taali bajao zor se taali

soch khud ka hunar dil se nikalti ye daad hai
soch khud ka hunar dil se nikalti ye daad hai
ye qawalli wali baat hai purani dilli ki baraat hai

gila nahi jo mila nahi kaaba tarif ka dikha nahi
gila nahi jo mila nahi kaaba tarif ka dikha nahi
bulbul tha maajhi mera kaala majhi
nahi ban paaya main phir se haaji

bula lo khuda, bula lo qaazi
nikaah ke liye khudai ko kar lunga main raazi
main mehfil ka mawaali bajao zor se taali

paunchh ghaflat ki laali bajaao zor se taali
ha taali ke baad taali bajao zor se taali

Lyrics in Hindi (Unicode) of "बजाओ जोर से ताली (वर्शन १)"


दिल वाले बोसे उडाओ मद्धम सी हंसी गिराओ
बूथ क्यूँ बने पड़े हो रिंध सा महक जाओ
काठ में गाड दो किल्ली माचिस पर घिस दो तिल्ली
यु तो फीकी थी हवा मैंने कैफ़ी कर डाली
पौंछ घफलत की लाली बजाओ जोर से ताली
ग़म को दे देना गाली बजाओ जोर से ताली
ताली के बाद ताली बजाओ जोर से ताली

है सात मकान सरगम के इनमे रहते सूफी है
मेरे यार है, दिलदार है
रूह की तफरी, जम-जम की गार है
हर धुन को इश्के वाली फसले बाटी है
होठो से सहला सहला नाज़नी की बालिया काटी है

हा बुल्ला के हर्फो पर मरने वाली बावली मतवाली
बजाओ जोर से ताली
हा शहद की शहर वाली बजाओ जोर से ताली
ताली के बाद ताली बजाओ जोर से ताली

सोच खुद का हुनर दिल से निकलती ये दाद है
सोच खुद का हुनर दिल से निकलती ये दाद है
ये कवाल्ली वाली बात है पुराणी दिल्ली की बारात है

गिला नहीं जो मिला नहीं काबा तरीफ़ का दिखा नहीं
गिला नहीं जो मिला नहीं काबा तरीफ़ का दिखा नहीं
बुलबुल था माझी मेरा काला माझी
नहीं बन पाया मैं फिर से हाजी

बुला लो खुदा, बुला लो क़ाज़ी
निकाह के लिये खुदाई को कर लूंगा मैं राज़ी
मैं महफ़िल का मवाली बजाओ जोर से ताली

पौंछ घफलत की लाली बजाओ जोर से ताली
हा ताली के बाद ताली बजाओ जोर से ताली

No comments:

Post a comment