25 July 2015

Lyrics Of "Brothers Anthem" From Latest Movie - Brothers (2015)

Brothers Anthem
Brothers Anthem
Lyrics Of Brothers Anthem From Latest Movie - Brothers (2015): A motivational song sung by Vishal Dadlani and music composed by Ajay Gogavale, Atul Gogavale.

Singer: Vishal Dadlani
Music: Ajay Gogavale, Atul Gogavale
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Star Cast: Akshay Kumar, Sidharth Malhotra, Jackie Shroff, Jacqueline Fernandez, Ashutosh Rana, Shifaali Shah, Kareena Kapoor Khan.


The video of this song is available on youtube at the official channel Sony Music India. This video is of 2 minutes 12 seconds duration.


Lyrics of "Brothers Anthem"


ho tukdon mein bikhra andhera
chamka sitara jo tera
ambar pe aa dastkhat kar de
tu ab talak tha adhoora
hone hi wala hai poora
hadd se guzar ja tu hadd kar de
hai chaah toh hai raasta
ye jaan le zara
mumkeen nahin hai kya agar
tu thaan le zara

teri baari hai kamar kas le
tere bas mein hai saare masle
tere toote hue dil ki zameeno pe
himmat ki ugaa le faslein
tere hathon mein karam hai tera
aur khoon garam hai tera
koi teer nishane se chooke na
jam ke kadam rakh le

khud mein tu hathiyar hai
ladne ko taiyaar hai
danke ki ik chot ke jaisa
har tera vaar hai
manzil tujhpe hai fidaa
tera haafiz hai khuda
kuch aisa karja ke wo bhi tujhse pooche
bande batla de teri marzi hai kya

har darr ka hata de kohra
taaqat kaa tu ban mohra
har lakshya ko bhed ke dikhla de
arjun ki kahaani dohra
marham ho haraam tera
aur zakhm inaam tera
bheega ho jo tere paseene mein
wohi jeet ka ho chehra

mana ab hai farsh par
tera haq to hai shikhar
har bandhan se toot ke
apni manzil pe tu kooch kar
charcha ho is baat ka
duniya ki zubaan par
upar wale ne banaya hai kya
tere dono haathon ko talware pighla kar


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ब्रदर्स एंथम"


हो टुकडो मे बिखरा अँधेरा
चमका सितारा जो तेरा
अम्बर पे आ दस्तखत कर दे
तू अब तलक था अधुरा
होने ही वाला हैं पूरा
हद से गुज़र जा तू हद कर दे
हैं चाह तो हैं रास्ता
ये जान ले ज़रा
मुमकीन नहीं हैं क्या अगर
तू ठान ले ज़रा

तेरी बारी हैं कमर कस ले
तेरे बस मे हैं सारे मसले
तेरे टूटे हुए दिल की ज़मीनों पे
हिम्मत की उगा ले फसले
तेरे हाथो मे करम हैं तेरा
और खून गरम हैं तेरा
कोई तीर निशाने से चुके ना
जैम के कदम रख ले

खुद मे तू हथियार हैं
लड़ने को तैयार हैं
डंके की इक चोट के जैसा
हर तेरा वार हैं
मंजिल तुझपे हैं फ़िदा
तेरा हाफ़िज़ हैं खुदा
कुछ ऐसा करजा के वो भी तुझसे पूछे
बन्दे बतला दे तेरी मर्ज़ी हैं क्या

हर दर का हटा दे कोहरा
ताकत का तू बन मोहरा
हर लक्ष्य को भेद के दिखला दे
अर्जुन की कहानी दोहरा
मरहम हो हराम तेरा
और ज़ख्म इनाम तेरा
भीगा हो जो तेरे पसीने मे
वोही जीत का हो चेहरा

माना अब हैं फर्श पर
तेरा हक़ तो हैं शिखर
हर बंधन से टूट के
अपनी मंजिल पे तू कुच कर
चर्चा हो इस बात का
दुनिया की जुबां पर
ऊपर वाले ने बनाया हैं क्या
तेरे दोनों हाथों को तलवारे पिघला कर

No comments:

Post a comment