30 July 2015

Lyrics Of "Ye Raat Mona Lisa" From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013)

Ye Raat Mona Lisa
Ye Raat Mona Lisa
Lyrics Of Ye Raat Mona Lisa From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013): A song sung by Usha Uthup and music composed by Advait Nemlekar.

Singer: Usha Uthup
Music: Advait Nemleka
Lyrics: Ram Ramesh Sharma
Star Cast: Chandrahas Tiwari, Alok Chaturvedi, Megh Pant, Joydip Mukhopadhyay.





Lyrics of "Ye Raat Mona Lisa"


ye raat monalisa jaise sangin hai
aadhi khushi hai aadhi gamnagin hai
ye raat monalisa jaise sangin hai
aadhi khushi hai aadhi gamnagin hai

khidkiyo ke bahar girta kitna saara neer hai
aaj maano god ko to need hain
samjhte ye khudko parinde hai par ye ud nahi sakte
kabhi pankho se fadfadate hai par ye ud nahi sakte

in shuturmurgo ki daasta to hamesha ki hai
padna nahi chahti hamesha apne shishe dhak leti hai
ye itne badsurat hai kya
kabhi pankho se fadfadate hai par ye ud nahi sakte

inki durtgulab ki haveliya hai
dekh inhe sukh hai
sunne me kaato ki saheliya hai

one two three four
kamjor se dilo pe muskane hai
udas muskane hai, mayus muskane hai
kamjor se dilo pe muskane hai
mayus muskane hai, udas muskane hai
thaki thaki si hai phir bhi ye chal rahi hai
samjhte ye khudko parinde hai par ye ud nahi sakte
kabhi pankho se fadfadate hai par ye ud nahi sakte

sehar tehar ko barsane ko hai
aur hosh masti ke scooter par sawar hai
sehar tehar ko barsane ko hai
aur hosh masti ke scooter par sawar hai
nada se nashe me jhum rahe hai
jaise ye koi nur hai kya
bhatak si nikalti aasane hai nazaro ke namaaj hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ये रात मोनालिसा"


ये रात मोनालिसा जैसे संगीन है
आधी ख़ुशी है आधी गमनगिन है
ये रात मोनालिसा जैसे संगीन है
आधी ख़ुशी है आधी गमनगिन है

खिडकियों के बहार गिरता कितना सारा नीर है
आज मानो गॉड को तो नीड हैं
समझते ये खुदको परिंदे है पर ये उड़ नहीं सकते
कभी पंखो से फडफडाते है पर ये उड़ नहीं सकते

इन शुतुरमुर्गो की दास्ता तो हमेशा की है
पड़ना नहीं चाहती हमेशा अपने शीशे ढक लेती है
ये इतने बद्सुरत है क्या
कभी पंखो से फडफडाते है पर ये उड़ नहीं सकते

इनकी दुर्तगुलाब की हवेलिया है
देख इन्हें सुख है
सुनने में काटो की सहेलिया है

वन टू थ्री फोर
कमजोर से दिलो पे मुस्काने है
उदास मुस्काने है, मायूस मुस्काने है
कमजोर से दिलो पे मुस्काने है
मायूस मुस्काने है, उदास मुस्काने है
थकी थकी सी है फिर भी ये चल रही है
समझते ये खुदको परिंदे है पर ये उड़ नहीं सकते
कभी पंखो से फडफडाते है पर ये उड़ नहीं सकते

सेहर तेहर को बरसाने को है
और होश मस्ती के स्कूटर पर सवार है
सेहर तेहर को बरसाने को है
और होश मस्ती के स्कूटर पर सवार है
नादा से नशे में झूम रहे है
जैसे ये कोई नूर है क्या
भटक सी निकलती आसाने है नज़रो के नमाज है

No comments:

Post a comment