30 July 2015

Lyrics Of "Jhalkiya" From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013)

Jhalkiya
Jhalkiya
Lyrics Of Jhalkiya From Movie - Kaafiron Ki Namaaz (2013): A pop song sung by Kshitij Tarey, Javed Ali and music composed by Advait Nemlekar.

Singer: Kshitij Tarey, Javed Ali
Music: Advait Nemleka
Lyrics: Ram Ramesh Sharma
Star Cast: Chandrahas Tiwari, Alok Chaturvedi, Megh Pant, Joydip Mukhopadhyay.





Lyrics of "Jhalkiya"


ye malhar ki loriya hai, hans jaisi boliya hai
ik dibbe me bichhayi udaas se koso ki
udaas se koso ki ye jhalkiya hai
jhalkiyan hai, loriya hai
jhalkiyan hai, loriya hai

teri godh ko roya hu
neendo me aansu lekar soya hu
maa tu sapno me aa jaiyyo
ghar ghar khelunga yu hi maa
tu daliya apne haatho se khillaiyyo
maa sapno me aa jaiyyo, sapno me aa jaiyyo
loriya hai, loriya hai
jhalkiya hai, loriya hai

gaandhi itna sa zara bata de
gar tu main hota to kya karta
tu ek gaal par laal chhape to duja aage karta
duje par bhi jo laal chhape phir kya tu karta
bata gandhi bata gandhi batana

ik chadar hai bistar par leti hui hai
khamosh hai gudmud hone ko mar rahi hai
rati hai bekapada hai dekh rahi hai
mehakne ka intzar kar rahi hai
na chadar ko silvate de saka
na rati ko mehka paya
gulmohar ke aangan se maili si kali le aaya
jaante hai khamosh hai rati hai

patti bandh ke khud ko nehlata hu
terta salil hai ya lahu ka fuvara hai
ajib sa gulka pada hai
dimag se dil talak sa
dimag se dil talak sa sab kona hai
jhalkiya hai, loriya hai
jhalkiya hai, loriya hai
jhalkiya hai, loriya hai
loriya loriya


Lyrics in Hindi (Unicode) of "झलकिया"


ये मल्हार की लोरिया है, हंस जैसी बोलिया है
इक डिब्बे में बिछायी उदास से कोसो की
उदास से कोसो की ये झलकिया है
झलकिया है, लोरिया है
झलकिया है, लोरिया है

तेरी गोद को रोया हु
नींदों में आंसू लेकर सोया हु
माँ तू सपनो में आ जइयो
घर घर खेलूंगा यु ही माँ
तू दलिया अपने हाथो से खिलाइयो
माँ सपनो में आ जइयो, सपनो में आ जइयो

लोरिया है, लोरिया है
झलकिया है, लोरिया है

गांधी इतना सा ज़रा बता दे
गर तू मैं होता तो क्या करता
तू एक गाल पर लाल छपे तो दूजा आगे करता
दूजे पर भी जो लाल छपे फिर क्या तू करता
बता गांधी बता गांधी बताना

इक चादर है बिस्तर पर लेटी हुई है
खामोश है गुडमुड होने को मर रही है
रति है बेकपडा है देख रही है
महकने का इंतजार कर रही है
ना चादर को सिलवटे दे सका
ना रति को महका पाया
गुलमोहर के आँगन से मैली सी कली ले आया
जानते है खामोश है रति है

पट्टी बांध के खुद को नेहलाता हु
तेरता सलिल है या लहू का फुवारा है
अजीब सा गुल्का पड़ा है
दिमाग से दिल तलक सा
दिमाग से दिल तलक सा सब कोना है
झलकिया है, लोरिया है
झलकिया है, लोरिया है
झलकिया है, लोरिया है
लोरिया लोरिया

No comments:

Post a comment