1 August 2015

Lyrics Of "Log Yaha" From Movie - Mai... (2013)

Log Yaha
Log Yaha
Lyrics Of Log Yaha From Movie - Mai... (2013): An emotional and sad song sung by Sukhwinder Singh featuring Asha Bhosle, Padmini Kolhapure, Shivani Joshi, Ram Kapoor, Navin Kaushik

Singer: Sukhwinder Singh
Music: Manoj Tapadia
Lyrics: Nitin Shankar
Star Cast: Asha Bhosle, Padmini Kolhapure, Shivani Joshi, Ram Kapoor, Navin Kaushik, Anupam Kher.



The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 1 minutes 30 seconds duration.

Lyrics of "Log Yaha"


log yaha sapno ki dhup me chalte hai chalte hai
log yaha sapno ki dhup me chalte hai
log yaha sapno ki dhup me chalte hai
ik hum hai jo apno ki chaav me bhi jalte hai
ik hum hai jo apno ki chaav me bhi jalte hai

ho risto ka bojh hai kahi kahi rista hi bojh hai
apno ki khoj hai kahi kahi apni hi khoj hai
kaise samjhau kaise samjhau samjhau samjhau
kuch samjh nahi aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai

dil me tha sailab kahi aankhe jane kyu royi nahi
kahne ko sab apne the apna kahne ko koi nahi
kaise samjhau kaise samjhau samjhau samjhau
kuch samjh nahi aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai

ho kaisa majhdhar hai ye jiska koi kinara nahi
hum to hai yaha sabke bas koi hamara nahi
ab kaha jaau kisko batau mai batau haye batau
kuch samjh nahi aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai

log yaha sapno ki dhup me jalte hai
log yaha sapno ki dhup me jalte hai
ik hum hai jo apno ki chaav me bhi jalte hai
ek hum hia jo apno ki chaav me bhi jalte hai
ho risto ka bojh hai kahi kahi rista hi bojh hai
apno ki khoj hai kahi kahi apni hi khoj hai
kaise samjhau kaise samjhau samjhau samjhau
kuch samjh nahi aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai
aisa bhi mod jiwan me aata hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "लोग यहाँ"


लोग यहाँ सपनो की धुप में चलते है चलते है
लोग यहाँ सपनो की धुप में चलते है
लोग यहाँ सपनो की धुप में चलते है
इक हम है जो अपनों की छाव में भी जलते है
इक हम है जो अपनों की छाव में भी जलते है

हो रिस्तो का बोझ है कही कही रिश्ता ही बोझ है
अपनों की खोज है कही कही अपनी ही खोज है
कैसे समझाऊ कैसे समझाऊ समझाऊ समझाऊ
कुछ समझ नहीं आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है

दिल में था सैलाब कही आँखे जाने क्यों रोई नहीं
कहने को सब अपने थे अपना कहने को कोई नहीं
कैसे समझाऊ कैसे समझाऊ समझाऊ समझाऊ
कुछ समझ नहीं आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है

हो कैसा मझधार है ये जिसका कोई किनारा नहीं
हम तो है यहाँ सबके बस कोई हमारा नहीं
अब कहा जाऊ किसको बताऊ मैं बताऊ हाय बताऊ
कुछ समझ नहीं आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है

लोग यहाँ सपनो की धुप में चलते है
लोग यहाँ सपनो की धुप में चलते है
इक हम है जो अपनों की छाव में भी जलते है
इक हम है जो अपनों की छाव में भी जलते है
हो रिस्तो का बोझ है कही कही रिश्ता ही बोझ है
अपनों की खोज है कही कही अपनी ही खोज है
कैसे समझाऊ कैसे समझाऊ समझाऊ समझाऊ
कुछ समझ नहीं आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है
ऐसा भी मोड़ जीवन में आता है

No comments:

Post a comment