12 September 2015

Lyrics Of "Khulne Lagi Zindagi" From Latest Movie - The Perfect Girl - Ek Simple Si Love Story (2015)

Khulne Lagi Zindagi
Khulne Lagi Zindagi
Lyrics Of Khulne Lagi Zindagi From Movie - The Perfect Girl - Ek Simple Si Love Story (2015): A pop song sung by Raman Mahadevan featuring Tara Alisha Berry, Teeshay.

Music: Siddharth Mahadevan, Soumil Shringarpure
Lyrics: Manoj Yadav
Star Cast: Tara Alisha Berry, Teeshay, Shishir Sharma, Raju Kher, Sonali Sachdev, Smita Hai.




The audio of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This audio is of 4 minutes 03 seconds duration.

Lyrics of "Khulne Lagi Zindagi"


khulne lagi zindagi khulne lagi
mil gaye, mil gaye
mil gaye kuch lamhe ummeed ke
zindagi ajnabi na rahi
gair the ya dost hain
hai lamhe ajeeb se
khush bhi hain aur khushi bhi nahi
khulne lagi zindagi khulne lagi
khulne lagi yeh zindagi

jo ruki-ruki ik saans thi
har aur ab udne lagi, udne lagi
aankhon mein band jo talaash thi
har qaid se khulne lagi

kyu lafz mile hai par honth sile hai
ye jism aur rooh alag si kyun hai
alag si kyun hai
wo kyu aake kinare par baat ruki hai
baat ruki hai
bheed bhi hoon, tanhaai bhi hoon
tere bina, tere bina main yahan hoon
baraste sawalo ki boondon me ik lamha sa
hoon band main, hoon band main

jo ruki-ruki ik saans thi
har aur ab udne lagi, udne lagi
aankhon mein band jo talaash thi
har qaid se khulne lagi
jo ruki-ruki ik saans thi
har aur ab udne lagi, udne lagi
aankhon mein band jo talaash thi
har qaid se khulne lagi

oo zindagi khulne lagi
khulne lagi ye zindagi
khulne lagi zindagi zindagi khulne lagi



Lyrics in Hindi (Unicode) of "खुलने लगी ज़िन्दगी"

 
खुलने लगी ज़िन्दगी खुलने लगी
मिल गए, मिल गए
मिल गए कुछ लम्हे उम्मीद के
ज़िन्दगी अजनबी ना रही
गैर थे या दोस्त हैं
हैं लम्हे अजीब से
खुश भी हैं और ख़ुशी भी नहीं
खुलने लगी ज़िन्दगी खुलने लगी
खुलने लगी ये ज़िन्दगी

जो रुकी-रुकी इक साँस थी
हर ओर अब उड़ने लगी, उड़ने लगी
आँखों में बंद जो तलाश थी
हर क़ैद से खुलने लगी

क्यूँ लफ्ज़ मिले हैं पर होंठ सिले हैं
ये जिस्म और रूह अलग सी क्यूँ हैं
अलग सी क्यूँ हैं
को क्यूँ आके किनारे पर बात रुकी हैं
बात रुकी हैं
भीड़ भी हूँ, तन्हाई भी हूँ
तेरे बिना, तेरे बिना मैं यहाँ हूँ
बरसते सवालों की बूंदों मे इक लम्हा सा
हूँ बंद मैं, हूँ बंद मैं

जो रुकी-रुकी इक साँस थी
हर ओर अब उड़ने लगी, उड़ने लगी
आँखों में बंद जो तलाश थी
हर क़ैद से खुलने लगी
जो रुकी-रुकी इक साँस थी
हर ओर अब उड़ने लगी, उड़ने लगी
आँखों में बंद जो तलाश थी
हर क़ैद से खुलने लगी

ओओ ज़िन्दगी खुलने लगी
खुलने लगी ये ज़िन्दगी
खुलने लगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी खुलने लगी

No comments:

Post a comment