8 December 2015

Lyrics Of "Saali Bhand" From Latest Movie - Charlie Kay Chakkar Mein (2015).

Saali Bhand
Saali Bhand
A playful song sung by Amit Sial, music composed by Rohit Kulkarni while lyrics are penned by Harry Anand.

Singer: Amit Sial
Music: Rohit Kulkarni
Lyrics: Harry Anand
Star Cast: Naseeruddin Shah, Amit Sial, Anand Tiwari, Subrat Dutta, Manasi Rachh, Disha Arora,
Shweta Sharma.




Lyrics of "Saali Bhand"


saali bhand, kabhi apun ki bhi item thi
heart from is dhadkan ki
woh mere dil ki dhadkan thi
mera tan, mera dhan, mera man
mera kan kan kan kan kan kan

cycle pe usko ghumaya tha
usko bhi bada maza aaya tha
shopping pe jab bhi bulaaya tha
note maine gawaaya tha

tum na poocho uska naam
woh kamini ho na jaye badnam
god promise ho na jaye badnam
main jiske tha chakkar mein
woh nikli saali bhand
main jiske tha chakkar mein
woh nikli saali bhand

ek lao jaake, dilli se yahan aaya hai bhaai
mera dushman to hai woh
par dil usse lagaya hai re
uska khanjar, meri peeth hai
yeh andar tak ghusaya hai
woh boli mere ko chaayi hai
laali ki laali, mere ko banke charlie
kal dega supari
bolo kya karta, main uspe marta
nikal gayi woh saali, saali bhand
saali bhand, nikal gayi woh saali
nikal gayi woh saali, jackey ki bani woh ghar wali
nikal gayi woh saali
dayan chudail haan, jackey ki bani woh ghar wali

uske gate ke niche maine gujari raat kitni baari
uske khatir baandhe dhaage maine rakhi somwari
barishon mein bhutta laaya
kutte ke jaisa feeling aaya
haddi bhi mujhko na dikhaya
total emotion sakpakaya
neend mein aana uska kaam
utha patak aur dhoom dhadam
god promise dhoom dhadam
main jiske tha chakkar mein, woh nikli saali bhand
main jiske tha chakkar mein, woh nikli saali bhand
saali bhand, saali bhand 


Lyrics in Hindi (Unicode) of "साली भांड"


साली भांड, कभी अपुन की भी आइटम थी
हार्ट फ्रॉम इस धड़कन की
वो मेरे दिल की धड़कन थी
मेरा तन, मेरा धन, मेरा मन
मेरा कण कण कण कण कण कण

साइकिल पे उसको घुमाया था
उसको भी बड़ा मज़ा आया था
शौपिंग पे जब भी बुलाया था
नोट मैंने गवाया था

तुम ना पूछो उसका नाम
वो कमीनी हो ना जाए बदनाम
गॉड प्रॉमिस हो ना जाए बदनाम
मैं जिसके था चक्कर में
वो निकली साली भांड
मैं जिसके था चक्कर में
वो निकली साली भांड

एक लाओ जाके, दिल्ली से यहाँ आया है भाई
मेरा दुश्मन तो है वो
पर दिल उससे लगाया है रे
उसका खंजर, मेरी पीठ है
ये अन्दर तक घुसाया है
वो बोली मेरे को छाई है
लाली की लाली मेरे को बनके चार्ली
कल देगा सुपारी
बोलो क्या करता, मैं उसपे मरता
निकल गयी वो साली, साली भांड
साली भांड, निकल गयी वो साली
निकल गयी वो साली, जैकी की बनी वो घरवाली
निकल गयी वो साली
डायन चुड़ैल हाँ, जैकी की बनी वो घरवाली

उसके गेट के निचे मैंने गुजारी रात कितनी बारी
उसके खातिर बांधे धागे मैंने रखी सोमवारी
बारिशों में भुट्टा लाया
कुत्ते के जैसा फीलिंग आया
हड्डी भी मुझको ना दिखाया
टोटल इमोशन सकपकाया
नींद में आना उसका काम
उठा पटक और धूम धड़ाम
गॉड प्रॉमिस धूम धड़ाम
मैं जिसके था चक्कर में, वो निकली साली भांड
मैं जिसके था चक्कर में, वो निकली साली भांड
साली भांड, साली भांड

No comments:

Post a comment