28 February 2016

Lyrics Of "Mann Ka Mirga" From Latest Movie - Bollywood Diaries (2016).

Mann Ka Mirga
Mann Ka Mirga
This song has two version, first sung by Pratibha Bhagel, Javed Bashir, Nooran Sisters and second by Neha Rajpal.

Music: Vipin Patwa
Lyrics: DR Sagar
Star Cast: Ashish Vidyarthi, Raima Sen, Salim Diwan, Karuna Pandey, Vineet Kumar Singh, Robin Das, Monica Murthy.



The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 3 minutes 25 seconds duration.

Lyrics of "Mann Ka Mirga"


ret ke tukde paani se dikhte hai ya naino ke dhokhe hai
manzil bhi apna roop badalti hai, raste ajab anokhe hai
kaisa safar hai yeh kuch naa nazar aaye
uljhi paheli hai yeh koi toh suljhaye
har subah ki, har shaam bhi sinduri kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga
dhund raha, dhund raha mann ka mirga
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha

yeh khwaabo ke andar koi behta hai dariya
yeh nigaahe phir bhi banjar hai yaha
ho yeh kaisi hai lehre jo khud me duboye
khwahisho ka ab samandar hai yaha
yeh kaisa junoon hai, yeh kaisi ibaadat
chahato ka aisa manzar hai yaha
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga
dhund raha, dhund raha mann ka mirga
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha

zameen se falak tak hai baahe pasaare
aaj dil bhi toh sikandar hai yaha
koi toh samjhaye, yeh sach ya fasaana
ab kaisa aaj manzar hai yaha
koi toh padh leta khuli yeh kitabe
jo hai baahar wohi andar hai yaha
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga dhund raha kasturi kaha hai
mann ka mirga, mann ka mirga dhund raha, dhund raha


Lyrics in Hindi (Unicode) of "मन का मिरगा"


रेत के तुकडे पानी से दीखते हैं या नैनो के धोखे हैं
मंजिल भी अपना रूप बदलती हैं, रस्ते अजब अनोखे हैं
कैसा सफ़र हैं ये कुछ ना नज़र आये
उलझी पहेली हैं ये कोई तो सुलझाये
हर सुबह की, हर शाम भी सिंदूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा
ढूंढ रहा, ढूंढ रहा मन का मिरगा
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा

ये ख्वाब के अन्दर कोई बहता हैं दरिया
ये निगाहे फिर भी बंजर हैं यहाँ
हो ये कैसी हैं लहरें जो खुद में डुबोये
ख्वाहिशो का अब समन्दर हैं यहाँ
ये कैसा जूनून हैं, ये कैसी इबादत
चाहतो का ऐसा मंज़र हैं यहाँ
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा
ढूंढ रहा, ढूंढ रहा मन का मिरगा
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा

ज़मीन से फलक तक हैं बाहे पसारे
आज दिल भी तो सिकंदर हैं यहाँ
कोई तो समझाए, ये सच या फ़साना
अब कैसा आज मंज़र हैं यहाँ
कोई तो पढ़ लेता खुली ये किताबे
जो हैं बाहर वोही अन्दर हैं यहाँ
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा ढूंढ रहा कस्तूरी कहा हैं
मन का मिरगा, मन का मिरगा ढूंढ रहा, ढूंढ रहा

No comments:

Post a comment