12 February 2016

Lyrics Of "Tera Aksh Hai Jo" From Movie - Ankur Arora Murder Case (2013)

Tera Aksh Hai Jo
Tera Aksh Hai Jo
A sad song sung by Sunidhi Chauhan featuring Kay Kay Menon, Paoli Dam, Arjun Mathur, Vishakha Singh, Tisca Chopra.

Singer: Sunidhi Chauhan
Music: Inder Bawra, Sunny Bawra
Lyrics: Sagar Lahauri
Star Cast: Kay Kay Menon, Vishesh Tiwari, Paoli Dam, Arjun Mathur, Vishakha Singh, Harsh Chhaya, Tisca Chopra.


The video of this song is available on youtube at the channel T-Series. This video is of 2 minutes 03 seconds duration.

Lyrics of "Tera Aksh Hai Jo"


tera aks hai jo tu bhi wo hi kyun nahi
jaisi teri surat vaisi sirat kyun nahi
tera aks hai jo tu bhi wo hi kyun nahi
jaisi teri surat vaisi sirat kyun nahi
chehre kyun badalti hai saath kyun na chalti hai
zinadgi tu jalti hai khwabo se mere
kaisi ye khalaye hai dil ko bhar ke chahe hai
dil savar rulaye hai jane se tere
tera aks hai jo tu bhi wo hi kyun nahi
jaisi teri surat vaisi sirat kyun nahi

sab kuchh jaise thahra hua hai
tham gaya hai pal vahi pe tu jaha ruke
khud me aise tu kho gayi hai
ab tujhe mera koi khayal bhi nahi
zinadgi sambhal ja tu thodi si badal ja tu
rahem kar pighl ja tu jhid kyun tu kare
chehre kyun badalti hai saath kyun na chalti hai
zinadgi tu jalti hai khwabo se mere
tera aks hai ho tu bhi wo hi kyun nahi
jaisi teri surat vaisi sirat kyun nahi

tujhko mujhse kitne gile hai
duriyo me kho gayi hai kurbate kahi
katra katra jine lage hai
zinadgi tujhe hai kyun shikayte kayi
rab se ab gila sa hai waqt se mila sa hai
khud se fasla sa hai ab to bin tere
chehre kyun badlti hai sath kyun na chalti hai
zinadgi tu jalti hai khwabo se mere
tera aks hai jo tu bhi wo hi kyun nahi
jaisi teri surat vaisi sirat kyun nahi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तेरा अक्स हैं जो"

 
तेरा अक्स हैं जो तू भी वो ही क्यूँ नहीं
जैसी तेरी सुरत वैसी सीरत क्यूँ नहीं
तेरा अक्स हैं जो तू भी वो ही क्यूँ नहीं
जैसी तेरी सुरत वैसी सीरत क्यूँ नहीं
चेहरे क्यूँ बदलती हैं साथ क्यूँ ना चलती हैं
जिन्दगी तू जलती हैं ख्वाबो से मेरे
कैसी ये खयाले हैं दिल को भर के चाहे हैं
दिल सवर रुलाये है जाने से तेरे
तेरा अक्स हैं जो तू भी वो ही क्यूँ नहीं
जैसी तेरी सुरत वैसी सीरत क्यूँ नहीं

सब कुछ जैसे ठहरा हुआ हैं
थम गया हैं पल वही पे तू जहा रुके
खुद में ऐसे तू खो गयी हैं
अब तुझे मेरा कोई खयाल भी नहीं
जिन्दगी संभल जा तू थोड़ी सी बदल जा तू
रेहम कर पिघल जा तू जिद क्यूँ तू करे
चेहरे क्यूँ बदलती हैं साथ क्यूँ ना चलती हैं
जिन्दगी तू जलती हैं ख्वाबो से मेरे
तेरा अक्स हैं जो तू भी वो ही क्यूँ नहीं
जैसी तेरी सुरत वैसी सीरत क्यूँ नहीं

तुझको मुझसे कितने गिले हैं
दूरियों में खो गयी हैं कुरबते कही
कतरा कतरा जीने लगे हैं
जिन्दगी तुझे हैं क्यूँ शिकायते कई
रब से अब गिला सा है वक़्त से मिला सा हैं
खुद से फासला सा हैं अब तो बिन तेरे
चेहरे क्यूँ बदलती हैं साथ क्यूँ ना चलती हैं
जिन्दगी तो चलती हैं ख्वाबो से तेरे
तेरा अक्स हैं जो तू भी वो ही क्यूँ नहीं
जैसी तेरी सुरत वैसी सीरत क्यूँ नहीं

No comments:

Post a comment