20 February 2016

Lyrics Of "Titli" From Latest Movie - Bollywood Diaries (2016).

Titli
Titli
This song has two version sung by Papon and Soumen Chaudhary, while music is composed by Vipin Patwa.

Singer: Papon / Soumen Chaudhary,
Music: Vipin Patwa
Lyrics: DR Sagar
Star Cast: Ashish Vidyarthi, Raima Sen, Salim Diwan, Karuna Pandey, Vineet Kumar Singh, Robin Das, Monica Murthy.


Lyrics of "Titli"


kaisa ye kaarvaan, kaise hai raaste
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye

saara sukun hai khoya khushiyo ki chahat me
dil ye seham saa jaaye chhoti si aahat me
kuch bhi samajh na aaye jaana hai kaha
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye

alfaaz saanso me hi aake bikharte jaaye
khamoshiyo me bole ye aankhe bezubaan
parchhaiya hai saathi, chalta hi jaaye raahi
koi na dekhe ab toh zakhmo ke nishaan
kuch bhi samajh na aaye jaana hai kaha
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye

na roshni hai koi, aashaye khoyi khoyi
tuta futa hai ye ummido ka jahaan
na bekarari koi, bandish rihaai koi
ab toh nigaaho me na koi intezaar
kuch bhi samajh na aaye jaana hai kaha
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye
khwabo ko sach karne ke liye titli ne sare rang bech diye



Lyrics in Hindi (Unicode) of "तितली"


कैसा ये कारवाँ, कैसे हैं रास्ते
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए

सारा सुकून हैं खोया खुशियों की चाहत में
दिल ये सहम सा जाए छोटी सी आहट में
कुछ भी समझ ना आये जाना हैं कहा
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए

अलफ़ाज़ साँसों में ही आके बिखरते जाए
खामोशियों में बोले ये आँखे बेजुबान
परछाइयाँ हैं साथी, चलता ही जाए राही
कोई ना देखे अब तो ज़ख्मो के निशान
कुछ भी समझ ना आये जाना हैं कहा
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए

ना रौशनी हैं कोई, आशाए खोयी खोयी
टुटा फूटा हैं ये उम्मीदों का जहाँ
ना बेकरारी कोई, बंदिश रिहाई कोई
अब तो निगाहों में ना कोई इंतज़ार
कुछ भी समझ ना आये जाना हैं कहा
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए
ख्वाबो को सच करने के लिए तितली ने सारे रंग बेच दिए

No comments:

Post a comment