20 March 2016

Lyrics Of "Aisi Duriya Sahu" From Movie - Cigarette Ki Tarah (2012)

Aisi Duriya Sahu
Aisi Duriya Sahu
A rock song sung by Nikhil D' Souza featuring Bhoop Yaduvanshi, Madhurima Tuli.

Singer: Nikhil D' Souza
Music: Ankur Viraj
Lyrics: Dev Narayan
Star Cast: Bhoop Yaduvanshi, Prashant Narayanan, Uvika Chaudhary, Madhurima Tuli, Sudesh Berry.




The video of this song is available on youtube at the official channel Worldwide Records INDIA. The video is of 3 minutes and 19 seconds duration.

Lyrics of "Aisi Duriya Sahu"



tu hi dikhe har jagah jine ki hai tu vahah
sochu hamesa tujhko hi kudh me tujhe dundta
aisi duriya sahu  khud to kis tarah
khali sardardiya sahu  khud to kis tarah
aisi duriya sahu  khud to kis tarah
khali sardardiya sahu  khud to kis tarah

aankho se hokar mere dil talak jaye tere sab rasate
samil mujhi me puri tarah tu hai mere vaasate
aankho se hokar mere dil talak jaye tere sab rasate
samil mujhi me puri tarah tu hai mere vaasate
sun le meri aarzoo
dil me basi sirf tu mahsus hota hai mujhe
tu hai tabhi mai bhi hu
aisi duriya sahu
aisi duriya sahu  khud to kis tarah
khali sardardiya sahu  khud to kis tarah
aisi duriya sahu  khud to kis tarah
khali sardardiya sahu  khud to kis tarah
aisi duriya sahu

tu nakhuda tu hi maharba tere karam ki chahate
o modh kaisa bhi bakhuda deti hai rahate
tu nakhuda tu hi maharba tere karam ki chahate
o modh kaisa bhi bakhuda deti hai rahate
tu hi dikhe har jagah jine ki hai tu vajah
sochu humesa tujhko hi khudh me tujhe dundta
aisi duriya sahu  khud to kis tarah
khali sardardiya sahu  khud to kis tarah
aisi duriya


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ऐसी दूरियां सहूँ"



तू ही दिखे हर जगह जीने की है तू वजह
सोचूँ हमेशा तुझको ही खुद में तुझे ढूंडा
ऐसी दूरियां सहूँ खुद को किस तरह
खाली सरदारदिया साहू खुद को किस तरह
ऐसी दूरियां सहूँ खुद को किस तरह
खाली सरदारदिया साहू खुद को किस तरह

आँखों से होकर दिल तलक जाये तेरे सब रास्ते
शामिल मुझी में पूरी तरह तू है मेरे वास्ते
आँखों से होकर दिल तलक जाये तेरे सब रास्ते
शामिल मुझी में पूरी तरह तू है मेरे वास्ते
सुन ले मेरी आरजू
दिल में बसी सिर्फ तू महसूस होता है मुझे
तू है तभी मैं भी हूँ
ऐसी दूरियां सहूँ
ऐसी दूरियां सहूँ खुद को किस तरह
खाली सरदारी दिया साहू खुद को किस तरह
ऐसी दूरियां सहूँ खुद को किस तरह
खाली सरदारी दिया साहू खुद को किस तरह
ऐसी दूरियां सहूँ

तू नाखुदा तू ही मेहरबा तेरे कर्म ही चाहते
ओ मोड़ कैसा भी बाखुदा देती है राहते
तू नाखुदा तू ही मेहरबा तेरे कर्म ही चाहते
ओ मोड़ कैसा भी बाखुदा देती है राहते
तू ही दिखे हर जगह जीने की है तू वजह
सोचु हमेशा तुझको ही खुद में तुझे ढूंडा
ऐसी दूरियां साहू खुद को किस तरह
खाली सरदारिया साहू खुद को किस तरह
ऐसी दूरियां

No comments:

Post a comment