21 March 2016

Lyrics Of "Dhadak Dhadak" From Movie - Delhi Safari (2012)

Dhadak Dhadak
Dhadak Dhadak
A playful song sung by Raghuvir Yadav, Shankar Mahadevan and music composed by Shankar Ehsaan Loy.

Singer: Shankar Mahadevan, Raghuvir Yadav
Music: Shankar Ehsaan Loy
Lyrics: Sameer
Features: Govinda, Urmila Matondkar, Suniel Shetty, Akshaye Khanna, Boman Irani, Swini Khara, Prem Chopra.




The Video of this song is available on Youtube.

Lyrics of "Dhadak Dhadak"


dhadak dhadak tadak tadak
dhadak dhadak tadak tadak
dhadak dhadak tadak tadak
dhadak dhadak tadak tadak
aao yaaro aao tumko raah batu delhi ki
aao yaaro aao tumko raah batu delhi ki
jaao yaha se sidha jaao
himmat rakho mat ghbharao
hariyali ka dera hoga
jungal yaha ghanera hoga
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi

hare bhare us jungle ki
insano ne mari raid
kaat diya sare jungle ko
chhod diya ek sukha ped
waha se phir tum aage jana
hua jo uspe na pachtana
behati hui leharo ka jaha
milegi tumko nadi jaha
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi

are nadi jaha pe kal behati thi aaj waha par naala hai
mat puchho insano ne kya haal uska kar dala hai
thodi duri tum tay karna bas insano se tum darna
kheto ki duniya sunsan waha pe hoga registaan
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi
nahi bhai nahi nahi bhai nahi

kho gayi banjaro ki toli rahe na woh mastane jhil
reto ki wo sundar til ho gayi highway me tabdil
sab ki duwa rang laayegi
sansad waha se dikh jayegi
sansad me khamosh na rahna
insano se bas ye kehana
suno suno vaishi insano
suno suno vaishi insano
ab to iska kahna mano
kudarat ye kehati hai har dum
humse tum aur tum se hum
hum ko agar mitaoge to khud bhi mit jaoge
hum ko agar mitaoge to khud bhi mit jaoge
hum ko agar mitaoge to khud bhi mit jaoge
hum ko agar mitaoge to khud bhi mit jaoge


Lyrics in Hindi (Unicode) of "धड़क धड़क"


धड़क धड़क तड़क तड़क
धड़क धड़क तड़क तड़क
धड़क धड़क तड़क तड़क
धड़क धड़क तड़क तड़क
आओ यारों आओ तुमको राह बताऊ दिल्ली की
आओ यारों आओ तुमको राह बताऊ दिल्ली की
जाओ यहाँ से सीधा जाओ
हिम्मत रखों मत घबराओं
हरयाली का डेरा होगा
जंगल यहाँ घनेरा होगा
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही

हरे भरे उस जंगल की
इंसानों ने मारी रेड
काट दिया सारे जंगल को
छोड़ दिया एक सुखा पेड़
वहाँ से फिर तुम आगे जाना
हुआ जो उसपे ना पछताना
बहती हुई लहरों का जहाँ
मिलेगी तुमको नदी जहाँ
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही

अरे नदी जहाँ पे कल बहती थी आज वहाँ पर नाला हैं
मत पूछो इंसानों ने क्या हाल उसका कर डाला हैं
थोड़ी दुरी तुम तय करना बस इंसानों से तुम डरना
खेतों की दुनिया सुनसान वहाँ पे होगा रेगिस्तान
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही
नही भई नही नही भई नही

खो गई बंजारों की टोली रहें ना वो मस्ताने झील
रेतों की वो सुन्दर टिल हो गई हाईवे में तब्दील
सब की दुआ रंग लाएगी
संसद वहाँ से दिख जाएगी
संसद में खामोश ना रहना
इंसानों से बस ये कहना
सुनों सुनों वेशी इंसानों
सुनों सुनों वेशी इंसानों
अब तो इसका कहना मानों
कुदरत ये कहती हैं हर दम
हमसे तुम और तुम से हम
हम को अगर मिटाओगे तो खुद भी मिट जाओगे
हम को अगर मिटाओगे तो खुद भी मिट जाओगे
हम को अगर मिटाओगे तो खुद भी मिट जाओगे
हम को अगर मिटाओगे तो खुद भी मिट जाओगे

No comments:

Post a comment