2 March 2016

Lyrics Of "Foolishq" From Latest Movie - Ki and Ka (2016)

Foolishq
Foolishq
Nice romantic song sung by Shreya Ghoshal, Armaan Malik featuring Kareena Kapoor Khan, Arjun Kapoor.

Singer: Shreya Ghoshal, Armaan Malik
Music: Ilayaraja
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Star Cast: Kareena Kapoor Khan, Arjun Kapoor, Rajit Kapoor, Swaroop Sampat, Amitabh Bachchan, Jaya Bachchan.


The audio of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This audio is of 4 minutes 29 seconds duration.


Lyrics of "Foolishq"


foolishq foolishq tera mera, foolishq foolishq tedha medha
foolishq foolishq tera mera, foolishq foolishq tedha medha
dil jispe aana naa ho, uspe hi aata hai kyu
jis tarfa jaana na ho, us tarfa jaata hai kyu, jaata hai kyu
foolishq foolishq tera mera, foolishq foolishq tedha medha
foolishq foolishq kuch kuch mera, foolishq foolishq zyada tera

sansaniya tan man me, gadbadiya dhadkan me
karta hai, kyun karta hai
par iski sohbat me rehne ko phir bhi dil
karta hai, kyun karta hai
foolishq thoda hai ye maana, foolishq ka hi hai zamana
dil ko achha lagta hai toh aankhe iss se kyun churana
kismat waalo ko milta hai yeh nazraana
foolishq foolishq tera mera, achchha hi hai tedha medha
foolishq foolishq tera mera, foolishq foolishq tedha medha

hontho pe aur kuch hai par dil me aur kuch hai
dono me ik toh sach hai
dil sachcha hoga toh sach woh hi bolega
phir kaisi yeh mach-mach hai
foolishq dil ki nadaani hai, dil ki aadat bachkaani hai
foolishq se hi darta hai yeh phir bhi foolishq karta hai yeh
bhula ke bhi bhulaya toh ye jaaye naa
foolishq foolishq tera mera, foolishq foolishq tedha medha
foolishq foolishq tera mera, achchha hi hai tedha medha


Lyrics in Hindi (Unicode) of "फ़ूलइश्क़"


फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ टेढ़ा मेढ़ा
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ टेढ़ा मेढ़ा
दिल जिसपे आना न हो, उसपे ही आता है क्यों
जिस तरफ़ा जाना न हो, उस तरफ़ा जाता है क्यों, जाता है क्यों
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ टेढ़ा मेढ़ा
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ कुछ कुछ मेरा, फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ ज़्यादा तेरा

सनसनिया तन मन में गड़बड़ियां धड़कन में
करता है, क्यों करता है
पर इसकी सोहबत में रहने को फिर भी दिल
करता है, क्यों करता है
फ़ूलइश्क़ थोड़ है ये माना, फ़ूलइश्क़ का ही है ज़माना
दिल को अछा लगता है तो आँखें इस से क्यों चुराना
किस्मत वालों को मिलता है ये नज़राना
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, अच्छा ही है टेढ़ा मेढ़ा
फूलइश्क़ फूलइश्क़ तेरा मेरा, फूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ टेढ़ा मेढ़ा

होंठों पे और कुछ है पर दिल में और कुछ है
दोनों में इक तो सच है
दिल सच्चा होगा तो सच वह ही बोलेगा
फिर कैसी यह मच मच है
फ़ूलइश्क़ दिल की नादानी है, दिल की आदत बचकानी है
फ़ूलइश्क़ से ही डरता है यह फिर भी फ़ूलइश्क़ करता है यह
भुलाके भी भुलाया तो ये जाए न
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ टेढ़ा मेढ़ा
फ़ूलइश्क़ फ़ूलइश्क़ तेरा मेरा, अच्छा ही है टेढ़ा मेढ़ा

No comments:

Post a comment