22 March 2016

Lyrics Of "Pehli Baar" From Latest Album - Pehli Baar (2016).

Pehli Baar
Pehli Baar
Beautiful romantic song sung, composed and written by Jiggra featuring him and Ashna.

Singer: Jiggra
Music: Jiggra
Lyrics: Jiggra
Features: Jiggra, Ashna.






The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 4 minutes 07 seconds duration.

Lyrics of "Pehli Baar"


koi tha tu kal, hai mera aaj se apna
hai haqiqat ya mai dekhu jaag ke sapna
koi tha tu kal, hai mera aaj se apna
hai haqiqat ya mai dekhu jaag ke sapna
na jaruri tha ye jina, haal tha kafir
zindagi ko zindagi mil hi gayi aakhir
ke pehli baar ye dil ishq ki dehliz aaya hai
safar me humsafar hai waah khuda kya mod laya hai
din ye badle raat badli hum hai badle se
ke pehli baar ye dil ishq ki dehliz aaya hai
safar me humsafar hai waah khuda kya mod laya hai

yaado ki tu pehli kitaab
pehla wo khwab aaye dhire dhire
wado me mere saare, pal tere hath me de du
de du mai maathe ki lakire
yaado ki tu pehli kitaab
pehla wo khwab aaye dhire dhire
wado me mere saare, pal tere hath me de du
de du mai maathe ki lakire
haal mera jo sunau to tu has degi
uss hasi ke waste kya jaan tu legi
ke pehli baar ye dil ishq ki dehliz aaya hai
safar me humsafar hai waah khuda kya mod laya hai
din ye badle raat badli hum hai badle se
ke pehli baar ye dil ishq ki dehliz aaya hai
safar me humsafar hai waah khuda kya mod laya hai
ke pehli baar ye dil ishq ki dehliz aaya hai
safar me humsafar hai waah khuda kya mod laya hai



Lyrics in Hindi (Unicode) of "पहली बार"


कोई था तू कल, है मेरा आज से अपना
है हक़ीक़त या मैं देखू जाग के सपना
कोई था तू कल, है मेरा आज से अपना
है हक़ीक़त या मैं देखू जाग के सपना
न जरुरी था ये जीना, हाल था काफिर
ज़िन्दगी को ज़िन्दगी मिल ही गयी आखिर
के पहली बार ये दिल इश्क़ की देहलीज़ आया है
सफर में हमसफ़र है वाह खुदा क्या मोड़ लाया है
दिन ये बदले रात बदली हम है बदले से
के पहली बार ये दिल इश्क़ की देहलीज़ आया है
सफर में हमसफ़र है वाह खुदा क्या मोड़ लाया है

यादों की तू पहली किताब
पहला वो ख्वाब आये धीरे धीरे
वादों में मेरे सारे, पल तेरे हाथ में दे दू
दे दू मैं माथे की लकीरे
यादों की तू पहली किताब
पहला वो ख्वाब आये धीरे धीरे
वादों में मेरे सारे, पल तेरे हाथ में दे दू
दे दू मैं माथे की लकीरे
हाल मेरा जो सुनाऊ तो तू हँस देगी
उस हँसी के वास्ते क्या जान तू लेगी
के पहली बार ये दिल इश्क़ की देहलीज़ आया है
सफर में हमसफ़र है वाह खुदा क्या मोड़ लाया है
दिन ये बदले रात बदली हम है बदले से
के पहली बार ये दिल इश्क़ की देहलीज़ आया है
सफर में हमसफ़र है वाह खुदा क्या मोड़ लाया है
पहली बार ये दिल इश्क़ की देहलीज़ आया है
सफर में हमसफ़र है वाह खुदा क्या मोड़ लाया है

No comments:

Post a comment