27 June 2016

Lyrics Of "Lori Suna" From Latest Album - Lori Suna (2016)

Lori Suna
Lori Suna
Beautiful song dedicated to mothers are sung by Sonu Kakkar, Neha Kakkar and Tony Kakkar featuring them and their parents in song video.

Singer: Sonu Kakkar, Neha Kakkar, Tony Kakkar
Music: Tony Kakkar
Lyrics: Tony Kakkar
Features: Sonu Kakkar, Neha Kakkar, Tony Kakkar





The video of this song is available on YouTube at the official channel Desi Music Factory. This video is of 7 minutes 44 seconds duration.

Lyrics of "Lori Suna"


lori suna fir se, mujhe neend nahi aati hai
bada hua hu magar, bachpan kahi baaki hai
lori suna fir se, mujhe neend nahi aati hai
bada hua hu magar, bachpan kahi baaki hai
jo sukoon milta tere aanchal me, na kahi milta duniya me
kaash so jaaun sote hi reh jaun, hai thakan kitni akhiyo me
duniya to kitna sataati hai maa
wo baarish me gum ki bhigati hai maa
tu to khud bheeg jaaye sukhe me sulati hai
lori suna fir se, mujhe neend nahi aati hai
tere aanchal me, duniya mil jaati hai

dard dil ke kyu, apne chhupati hai, tu chhupa mujhko aanchal me
haal hafto se puchha nahi tera, dekh kitna hu pagal main
kyu zakham kisi ko dikhaye nahi, kyu ye kisi ko bataye nahi
ke tu sabko khila bin khaye so jaati hai
lori suna fir se, mujhe neend nahi aati hai
tere aanchal me, duniya mil jaati hai

chaar din ki kyu ye zindgani hai, mujhko shikayat ye khuda se hai
ek maati ke putle hum sare hai, kuch paas rehte kuch juda se hai
chup-chap gaye wo bataya nahi, par tu jaye to humse chhupana nahi
maa tu bin bataye aksar chali jaati hai
lori suna fir se, mujhe neend nahi aati hai
tere aanchal me, duniya mil jaati hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "लोरी सुना"


लोरी सुना फिर से, मुझे नींद नहीं आती है
बड़ा हुआ हु मगर, बचपन कही बाकी है
लोरी सुना फिर से, मुझे नींद नहीं आती है
बड़ा हुआ हु मगर, बचपन कही बाकी है
जो सुकून मिलता तेरे आँचल में, ना कही मिलता दुनिया में
काश सो जाऊं सोते ही रेह जाऊ, है थकन कितनी अखियो में
दुनिया तो कितना सताती है माँ
वो बारिश में गुम की भीगती है माँ
तू तो खुद भीग जाए सूखे में सुलाती है
लोरी सुना फिर से, मुझे नींद नहीं आती है
तेरे आँचल में, दुनिया मिल जाती है

दर्द दिल के क्यों, अपने छुपाती है, तू छुपा मुझको आँचल में
हाल हफ्तों से पूछा नहीं तेरा, देख कितना हु पागल मैं
क्यों ज़ख़्म किसी को दिखाए नहीं, क्यों ये किसी को बताये नहीं
के तू सबको खिला बिन खाए सो जाती है
लोरी सुना फिर से, मुझे नींद नहीं आती है
तेरे आँचल में, दुनिया मिल जाती है

चार दिन की क्यों ये जिंदगानी है, मुझको शिकायत ये खुदा से
एक माती के पुतले हम सारे है, कुछ पास रहते कुछ जुदा से है
चुप-चाप गए वो बताया नहीं, पर तू जाये तो हमसे छुपाना नहीं
माँ तू बिन बताये अक्सर चली जाती है
लोरी सुना फिर से, मुझे नींद नहीं आती है
तेरे आँचल में, दुनिया मिल जाती है

No comments:

Post a comment