4 July 2016

Lyrics Of "Mehka Sa Hai Sama" From Latest Movie - Yeh Kaisi Hai Aashiqui (2016)

Mehka Sa Hai Sama
Mehka Sa Hai Sama
A romantic song sung by Palak Muchhal, Zaheer Raj and music composed by Shivam Bagchi.

Singer: Palak Muchhal, Zaheer Raj
Music: Shivam Bagchi
Lyrics: Amitabh Ranjan, Mahil Paldhvi
Star Cast: Rajdeep, Sukhbir Lambha, Atul Soni, Shipra.




The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 2 minutes 30 seconds duration.


Lyrics of "Mehka Sa Hai Sama"


mehka sa hai sama, pal bhi madhosh hai
keh rahi dhadkane, ghum hua hosh hai
jism se jism me, aaj utar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de

tujhme dubi hu main is qadar, khud ki na khud ko hai koi khabar
laagi mujhko teri aisi talab, tu hi to jeene ka mera sabab
main teri, tu mera, phir kyun dooriya kareeb aane de
jism se jism me, aaj utar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de

tere hontho pe ho mere nishan, tujhse yuhi hai ab to mera jahaa
ha sanso me sanse hai ghulne lagi, ruh se ruh ki dori judane lagi
hu jawa, ghumshuda, ishq me mujhko savar jane de
jism se jism me, aaj utar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
mehka sa hai sama, pal bhi madhosh hai
keh rahi dhadkane, ghum hua hosh hai
jism se jism me, aaj utar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de
haq hai hadd se, yu guzar jaane de


Lyrics in Hindi (Unicode) of "महका सा है समां"


महका सा है समां, पल भी मदहोश है
केह रही धड़कने, घूम हुआ होश है
जिस्म से जिस्म में, आज उतर जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे

तुझमे डूबी हु मैं इस क़दर, खुद की ना खुद को है कोई खबर
लागी मुझको तेरी ऐसी तलब, तू ही तो जीने का मेरा सबब
मैं तेरी, तू मेरा, फिर क्यों दूरिया करीब आने दे
जिस्म से जिस्म में, आज उतर जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे

तेरे होंठो पे हो मेरे निशान, तुझसे युही है अब तो मेरा जहा
हां सांसो में सांसे है घुलने लगी, रूह से रूह की डोरी जुड़ने लगी
हां जावा, घुमशुदा, इश्क में मुझको सवर जाने दे
जिस्म से जिस्म में, आज उतर जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
महका सा है समां, पल भी मदहोश है
केह रही धड़कने, घूम हुआ होश है
जिस्म से जिस्म में, आज उतर जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे
हक है हद से, यु गुज़र जाने दे

No comments:

Post a comment