22 September 2016

Lyrics Of "O Saheba" From Latest Movie - Love Day - Pyaar Ka Din (2016)

O Saheba
O Saheba
A romantic song sung by Shaan and Shreya Shaleen starring Ajaz Khan, Sahil Anand, Harsh Nagar.

Singer: Shaan, Shreya Shaleen
Music: Sumesh Himanshu
Lyrics: Sumesh Himanshu
Star Cast: Ajaz Khan, Sahil Anand, Harsh Nagar, Ragini Nandwani, Sonal Singh, Deepti Sati, Rajit Kapoor, Makrand Deshpande.



The video of this song is available on YouTube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 06 seconds duration.

Lyrics of "O Saheba"


tum mile toh hai mili jaise mujhko zindagi
jagi hai mujhme kuch ummide nayi
khili hai jaise roshani, banke hontho pe hasi
jage hai jaise naye sapne kayi
ab na hatho ko hath se chhodna, tum mujhse munh na modna
tum mile toh hai mili jaise mujhko zindagi
jagi hai mujhme kuch ummide nayi
o saheba saheba, o saheba saheba

tum na ho phir aake fariyaad me
aisa kuch to karo ke raho saamne
kaisi bhi mushkil ho jaaye khade
dhunde na hum kabhi, hatho ko yu thaam le
tum mile to jeet ka matlab samajh me aa gaya
ab to haar jaise fitrat me nahi
tum mile toh hai mili jaise mujhko zindagi
jagi hai mujhme kuch ummide nayi
o saheba saheba, o saheba saheba

tumse hi tumse hai mera jahan
tum jo na ho agar toh mai jaau kaha
hai mujhko lagta anjaana sheher
anjaani si ye zamin, anjaana sa aasmaan
tum mile to jeene ka jaise reason mujhko mila
ab to marne ki fursat bhi nahi
tum mile toh hai mili jaise mujhko zindagi
jagi hai mujhme kuch ummide nayi
o saheba saheba, o saheba saheba


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ओ साहेबा"


तुम मिले तो हैं मिली जैसे मुझको ज़िन्दगी
जगी हैं मुझमे कुछ उम्मीदे नयी
खिली हैं जैसे रोशनी, बनके होंठो पे हंसी
जगे हैं जैसे नए सपने कई
अब ना हाथो को हाथ से छोड़ना, तुम मुझसे मुंह ना मोड़ना
तुम मिले तो हैं मिली जैसे मुझको ज़िन्दगी
जगी हैं मुझमे कुछ उम्मीदे नयी
ओ साहेबा साहेबा, ओ साहेबा साहेबा

तुम ना हो फिर आके फ़रियाद में
ऐसा कुछ तो करो के रहो सामने
कैसी भी मुश्किल हो जाए खड़े
ढूंढे ना हम कभी, हाथो को यूँ थाम ले
तुम मिले तो जीत का मतलब समझ में आ गया
अब तो हार जैसे फितरत में नहीं
तुम मिले तो हैं मिली जैसे मुझको ज़िन्दगी
जगी हैं मुझमे कुछ उम्मीदे नयी
ओ साहेबा साहेबा, ओ साहेबा साहेबा

तुमसे ही तुमसे हैं मेरा जहान
तुम जो ना हो अगर तो मैं जाऊ कहा
हैं मुझको लगता अनजाना शहर
अनजानी सी ये ज़मीन, अनजाना सा आसमान
तुम मिले तो जीने का जैसे रीज़न मुझको मिला
अब तो मरने की फुरसत भी नहीं
तुम मिले तो हैं मिली जैसे मुझको ज़िन्दगी
जगी हैं मुझमे कुछ उम्मीदे नयी
ओ साहेबा साहेबा, ओ साहेबा साहेबा

No comments:

Post a comment