17 June 2015

Lyrics Of "Tujko Shayad" From Latest Album - Ehsaas Ki Khushboo (2015)

Tujko Shayad
Lyrics Of Tujko Shayad From Album - Ehsaas Ki Khushboo (2015): A pop song sung by Pooja Gaitonde & music composed by Ali - Ghani.

Singer: Pooja Gaitonde
Music: Ali - Ghani
Lyrics: N/A


 




Lyrics of "Tujko Shayad"



tujhko shayad meri yaad aayi
phir hawa ghungunaane lagi hain
tujhko shayad meri yaad aayi
phir hawa ghungunaane lagi hain
manchale baadalo ki sawaari
tere gaaon se aane lagi hain
aane lagi hain, aane lagi hain
tujhko shayad meri yaad aayi
phir hawa ghungunaane lagi hain

meethi meethi si dil mein kasak hain
meethi meethi si dil mein kasak hain
kaun mere siva jaanta hain
apni haalat ko main jaanti hoon
yaa toh mera khuda jaanta hain
mere dil ki khushi dil hi dil mein
shor kitna machane lagi hain
machane lagi hain, machane lagi hain
shor machane lagi hain

dhadkane mere bas mein nahin hain
dhadkane mere bas mein nahin hain
aaj mausam bahot hain neerala
kya meri zinadgi ke chaman mein
aas ka phool hai khilne wala
kyun meri aankhon mein baakpan se
raat kaajal lagane lagi hain
lagane lagi hain
kaajal lagane lagi hain

tujhko shayad meri yaad aayi
phir hawa ghungunaane lagi hain
manchale baadalo ki sawaari
tere gaaon se aane lagi hain
aane lagi hain, aane lagi hain


Lyrics in Hindi (Unicode) of "तुझको शायद"


तुझको शायद मेरी याद आई
फिर हवा गुनगुनाने लगी हैं
तुझको शायद मेरी याद आई
फिर हवा गुनगुनाने लगी हैं
मनचले बादलो की सवारी
तेरे गाँव से आने लगी हैं
आने लगी हैं, आने लगी हैं
तुझको शायद मेरी याद आई
फिर हवा गुनगुनाने लगी हैं

मीठी मीठी सी दिल मे कसक हैं
मीठी मीठी सी दिल मे कसक हैं
कौन मेरे सिवा जानता हैं
अपनी हालत को मैं जानती हूँ
या तो मेरा खुदा जानता हैं
मेरे दिल की ख़ुशी दिल ही दिल मे
शोर कितना मचाने लगी हैं
मचाने लगी हैं, मचाने लगी हैं
शोर मचाने लगी हैं

धड़कने मेरे बस मे नहीं हैं
धड़कने मेरे बस मे नहीं हैं
आज मौसम बहोत हैं निराला
क्या मेरी ज़िन्दगी के चमन मे
आस का फुल हैं खिलने वाला
क्यूँ मेरी आँखों मे बाकपन से
रात काजल लगाने लगी हैं
लगाने लगी हैं
काजल लगाने लगी हैं

तुझको शायद मेरी याद आई
फिर हवा गुनगुनाने लगी हैं
मनचले बादलो की सवारी
तेरे गाँव से आने लगी हैं
आने लगी हैं, आने लगी हैं

No comments:

Post a comment