29 June 2015

Lyrics Of "Zindagi Ki Raah Mein" From Movie - Satrangee Parachute (2011)

Zindagi Ki Raah Mein
Zindagi Ki Raah Mein
Lyrics Of Zindagi Ki Raah Mein From Movie - Satrangee Parachute (2011):  A Inspirational song sung by Kailash Kher and the Music has been composed by Kaushik Dutta.

Singer: Kailash Kher
Music: Kaushik Dutta
Lyrics: Rajeev Barnwal
Star Cast: Jackie Shroff, Kay Kay Menon, Zakir Hussain, Rajpal Yadav, Rupali Ganguly



The Audio of this song is available on Youtube.









Lyrics of "Zindagi Ki Raah Mein"



zindagi ki raah me muskuraata chal
khushiyo ki chaao me gungunaata chal
phir moond aankhe apni, sapna koi aayega
khule sapno ke gaao me itraata chal
zindagi ki raah me muskuraata chal
khushiyon ki chaao me gungunaata chal
phir moond aankhe apni sapna koi aayega
khule sapno ke gaao me itraata chal
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa
ud jaa, chal ud jaa, chal ud jaa, chal ud jaa, ud jaa
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa

woh titli jab udti hai kehti hai yeh kahani
neela sa ambar hai thoda megh thoda paani
aasmaan ke neeche nanhe nanhe qadam hai
 nahi tikte hai zameen pe mann me udne ki lagan hai
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa
ud jaa, chal ud jaa, chal ud jaa, chal ud jaa, ud jaa
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa

yeh parbat jo jhooth se khade
jaise seedi dharti ko aasmaan se jode
phir maar kar chhalange hum baadlo se khele
haath ham badhaye aur aasmaan ko chhu le
ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa, ud jaa
ud jaa, chal ud jaa, chal ud jaa, ud jaa, ud jaa,ud jaa
tu muskuraata chal,tu gungunaata chal
tu muskuraata chal,tu gungunaata chal
tu muskuraata chal,tu gungunaata chal  


Lyrics in Hindi (Unicode) of "जिंदगी की राह मे"



जिंदगी की राह में मुस्कुराता चल
खुशियों की छाँव में गुनगुनाता चल
फिर मूँद आँखें अपनी, सपना कोई आएगा
खुले सपनों के गाँव में इतराता चल
जिंदगी की राह में मुस्कुराता चल
खुशियों की छाँव में गुनगुनाता चल
फिर मूँद आँखें अपनी, सपना कोई आएगा
खुले सपनों के गाँव में इतराता चल
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा

वो तितली जब उड़ती है कहती है ये कहानी
नीला सा अम्बर है थोड़ा मेघ थोड़ा पानी
आसमान के नीचे नन्हे नन्हे क़दम हैं
नहीं टिकते हैं ज़मीन पे मन में उड़ने की लगन है
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा

ये पर्वत जो झूठ से खड़े
जैसे सीदी धरती को आसमान से जोड़े
फिर मार कर छलांगें हम बादलों से खेलें
हाथ हम बढ़ाएं और आसमान को छू लें
उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा, उड़ जा
उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, चल उड़ जा, उड़ जा
तू मुस्कुराता चल, तू गुनगुनाता चल
तू मुस्कुराता चल, तू गुनगुनाता चल
तू मुस्कुराता चल, तू गुनगुनाता चल


No comments:

Post a comment