24 July 2015

Lyrics Of "Firaak Main" From Abhijeet Sawant's Album -Farida (2013)

Firaak Main
Firaak Main
Lyrics Of Firaak Main From Abhijeet Sawant's Album -Farida (2013):A song sung by Abhijeet Sawant nad music composed by Rajiv Bhalla.

Singer: Abhijeet Sawant
Music: Rajiv Bhalla
Lyrics: Akshay K. Saxena.







Lyrics of "Firaak Main"


dard dafn hai, dafn har chaah bhi
dard dafn hai, dafn har chaah bhi
waqt ka sitam hai ki badhta hi ja raha
zalim manzilo ka farman aa raha
gumsum bekhabar raahe
sulagti sulagti hain ye aahe
zakhm jaane kab bhare, aankhe khud se na mile
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki

firaq me, firaq me
guzra ja raha har pal kaise intezaro me
raate hi hain jab yahan dil ki deewaro me
tanha jeena yahan, tanha marna yahan
zakhm jaane kab bhare, aankhe khud se na mile
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki

behti ashko ki lehar ab na tham paayegi
yaade saari hansi sang wo le jayegi
gham se ladna bhi kya hasil hona hai kya
takdeero ke hain faisle, zinda hain par na jiye
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki
firaq me rooh ye sukoon ki
firaq me nazare ye noor ki
firaq me


Lyrics in Hindi (Unicode) of "फिराक में"


दर्द दफ्न है, दफ्न हर चाह भी
दर्द दफ्न है, दफ्न हर चाह भी
वक्त का सितम है की बढ़ता ही जा रहा
ज़ालिम मंजिलों का फरमान आ रहा
गुमसुम बेखबर राहें
सुलगती सुलगती हैं ये आहे
ज़ख्म जाने कब भरे, आँखे खुद से ना मिले
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की

फिराक में, फिराक में
गुज़रा जा रहा हर पल कैसे इन्तेजारो में
राते ही हैं जब यहाँ दिल की दीवारों में
तनहा जीना यहाँ, तनहा मरना यहाँ
ज़ख्म जाने कब भरे, आँखे खुद से ना मिले
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की

बेहती अश्को को लेहर अब ना थाम पाएगी
यादे सारी हंसी संग वो ले जायेगी
घम से लड़ना भी क्या हासिल होना है क्या
तकदीरो के हैं फैसले, जिंदा हैं पर ना जिए
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की
फिराक में रूह ये सुकून की
फिराक में नज़रे ये नूर की
फिराक में

No comments:

Post a comment