24 July 2015

Lyrics Of "Kuch Kar Maula" From Abhijeet Sawant's Album -Farida (2013)

Kuch Kar Maula
Kuch Kar Maula
Lyrics Of Kuch Kar Maula From Abhijeet Sawant's Album -Farida (2013): A Philosophical song sung by Abhijeet Sawant nad music composed by Nakash Aziz.

Singer: Abhijeet Sawant
Music: Nakash Aziz
Lyrics: Sarim Momin





The video of this song is available on youtube.

Lyrics of "Kuch Kar Maula"


kuchh kar maula, kuchh kar maula
dil hone ko hai patthar maula
kuchh kar maula, kuchh kar maula
zakhmo ko par bhar de maula

duniya bhar me tabahi kyun hai
chup tu aise ilaahi kyun hai
kahin gam hai, matam hai
kahin aankhe sabhi nam hain
kahin khoon bhi ek rang hai
kahin tere naam se jang hai
kuchh kar maula, kuchh kar maula
zakhmon ko par bhar de maula
kuchh kar maula, kuchh kar maula
rasta de, rehbar de maula

darbadar main dhoop me tarasa re
barsa na paani ka katra re
kis kadar khata bhi kya hui
batla de, ummide kyun kam hain
kyun zakhm hi marham hain
kya itne bure ham hain
naraz tu har dam hain
kuchh kar maula, kuchh kar maula
zakhmo ko par bhar de maula
kuchh kar maula, kuchh kar maula
rasta de, rehbar de maula

duniya bhar me tabahi kyun hai
chup tu aise ilaahi kyun hai
kahin gam hai, matam hai
kahin aankhe sabhi nam hain
kahin khoon bhi ek rang hai
kahin tere naam se jang hai
kuchh kar maula, kuchh kar maula
dil hone ko hai pathar maula
kuchh kar maula, maula, maula


Lyrics in Hindi (Unicode) of "कुछ कर मौला"


कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
दिल होने को है पत्थर मौला
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
ज़खमों को पर भर दे मौला

दुनिया भर में तबाही क्यूं है
चुप तू ऐसे इलाही क्यूं है
कहीं गम है, मातम है
कहीं आँखें सभी नम हैं
कहीं खून भी एक रंग है
कहीं तेरे नाम से जंग है
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
ज़खमों को पर भर दे मौला
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
रस्ता दे, रेहबर दे मौला

दरबदर मैं धुप में तरसा रे
बरसा ना पानी का कतरा रे
किस कदर खता भी क्या हुई
बतला दे, उम्मीदें क्यूं कम हैं
क्यों ज़ख्म ही मरहम हैं
क्या इतने बुरे हम हैं
नाराज़ तू हर दम है
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
ज़खमों को पर भर दे मौला
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
रस्ता दे, रेहबर दे मौला

दुनिया भर में तबाही क्यूं है
चुप तू ऐसे इलाही क्यूं है
कहीं गम है, मातम है
कहीं आँखें सभी नम हैं
कहीं खून भी एक रंग है
कहीं तेरे नाम से जंग है
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला
दिल होने को है पत्थर मौला
कुछ कर मौला, कुछ कर मौला 

No comments:

Post a comment