26 July 2015

Lyrics Of "Kaash Tum Hote" From Movie - Kaash Tum Hote (2013)

Kaash Tum Hote
Kaash Tum Hote
Lyrics Of Kaash Tum Hote From Movie - Kaash Tum Hote (2013): Nice title song sung by Alka Yagnik, Shaan featuring Mukesh Bharti, Preeti Jhangiani, Farida Jalal, Sharat Saxena, Manju Bharti.

Singer: Alka Yagnik, Shaan
Music: Ram Shankar
Lyrics: Sudhakar Sharma
Star Cast: Mukesh Bharti, Preeti Jhangiani, Farida Jalal, Sharat Saxena, Manju Bharti.




The video of this song is available on youtube at the channel Cinecurry Music. This video is of 2 minutes 55 seconds duration.

Lyrics of "Kaash Tum Hote"


paane ki khushi se jyada khone ke dar se
dekhte rahe ham khudko tumhari nazar se
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote
paane ki khushi se jyada khone ke dar se
dekhte rahe ham khudko tumhari nazar se
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote

lipti hui hai tanse khushboo tumhari
paake rahenge tumko zid hai hamari
ha lipti hui hai tanse khushboo tumhari
paake rahenge tumko zid hai hamari
aksar mohabbat me hota yahi hai
milna bichhadna to bas me nahi hai
isi justaju me ham bhi nikle hai ghar se
isi justaju me ham bhi nikle hai ghar se
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote

jisne likha hai ye ishk ka mukaddar
sochega wo bhi aaya kaisa ye manjar
jisne likha hai ye ishk ka mukaddar
sochega wo bhi aaya kaisa ye manjar
o tera intjar aankhe karti rahengi
jism mil na paaye ruhe milke rahengi
o tera mera rishta juda rab ke dar se
tera mera rishta juda rab ke dar se
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote
kash tum hote kash tum hote 

Lyrics in Hindi (Unicode) of "काश तुम होते"


पाने की ख़ुशी से ज्यादा खोने के डर से
देखते रहे हम खुदको तुम्हारी नज़र से
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते
पाने की ख़ुशी से ज्यादा खोने के डर से
देखते रहे हम खुदको तुम्हारी नज़र से
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते

लिपटी हुई है तनसे खुशबु तुम्हारी
पाके रहेंगे तुमको जिद है हमारी
हा लिपटी हुई है तनसे खुशबु तुम्हारी
पाके रहेंगे तुमको जिद है हमारी
अक्सर मोहब्बत में होता यही है
मिलना बिछड़ना तो बस में नहीं है
इसी जुस्तजू में हम भी निकले है घर से
इसी जुस्तजू में हम भी निकले है घर से
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते

जिसने लिखा है ये इश्क का मुकद्दर
सोचेगा वो भी आया कैसा ये मंजर
जिसने लिखा है ये इश्क का मुकद्दर
सोचेगा वो भी आया कैसा ये मंजर
ओ तेरा इंतजार आंखे करती रहेंगी
जिस्म मिल ना पाये रुहे मिलके रहेंगी
ओ तेरा मेरा रिश्ता जुड़ा रब के दर से
तेरा मेरा रिश्ता जुड़ा रब के दर से
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते
काश तुम होते काश तुम होते

No comments:

Post a comment