9 July 2015

Lyrics Of "Musafir" From Movie - Lahore (2010)

Musafir
Musafir
Lyrics Of Musafir From Movie - Lahore (2010): This Energetic Song has two version sung by M. M. Kreem & Daler Mehndi while lyrics penned by Panchhi Jalonvi.

Music: M. M. Kreem
Lyrics: Panchhi Jalonvi
Star Cast: Aanaahad, Shraddha Das, Farooq Sheikh, Nafisa Ali, Shraddha Nigam, Saurabh Shukla, Aashish Vidyarthi, Mukesh Rishi.



The audio of this song is available on youtube at the channel CM Bollywood. This audio is of 5 minutes 56 seconds duration.


Lyrics of "Musafir"


sans rukti kaha hai kisi ki khatir
ye safar to hai bas khudi ki khatir
lamha lamha jindagi ka
lamha lamha jindagi ka hai akhir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
musafir hai musafir, musafir hai musafir

chalte hai wo bhi jo tham jate hai
rasto se bhi aage kadam jate hai
koi thahra kaha hai bata fir
koi thahra kaha hai bata fir
lamha lamha jindagi ka hai akhir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
musafir hai musafir, musafir hai musafir

barisho ke ye mausam to pal bhar rahe
khushk ankho me bheege se manjar rahe
ek ahsas ki ungali ko tham ke
tay kar raha hu mai marhale shaam ke
marhale shaam ke, marhale shaam ke
lamha lamha jindagi ka hai akhir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
musafir hai musafir, musafir hai musafir

jindagi ko sabhi kuch kaha hai mila
sans ka har kadam deta hai ye sada
jo na mila vo maujud harpal raha
wakt mujhme hai thahra mai chalta raha
lamha lamha jindagi ka hai akhir
lamha lamha jindagi ka hai akhir
lamha lamha jindagi ka hai akhir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
lamha lamha jindagi ka hai akhir
musafir hai musafir, musafir hai musafir
musafir hai musafir, musafir hai musafir

Lyrics in Hindi (Unicode) of "मुसाफिर"


साँस रूकती कहा हैं किसी की खातिर
ये सफ़र तो हैं बस खुदी की खातिर
लम्हा लम्हा जिंदगी का
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर

चलते है वो भी जो थम जाते हैं
रास्तो से भी आगे कदम जाते हैं
कोई ठहरा कहा हैं बता फिर
कोई ठहरा कहा हैं बता फिर
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर

बारिशो के ये मौसम तो पल भर रहे
खुश्क आँखों में भीगे से मंजर रहे
एक एहसास की उंगली को थाम को
तय कर रहा हु मैं मरहले शाम के
मरहले शाम के, मरहले शाम के
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर

जिंदगी को सभी कुछ कहा हैं मिला
साँस का हर कदम देता हैं ये सदा
जो ना मिला वो मौजुद हरपल रहा
वक़्त मुझमे हैं ठहरा मैं चलता रहा
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
लम्हा लम्हा जिंदगी का हैं आखिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर
मुसाफिर हैं मुसाफिर, मुसाफिर हैं मुसाफिर

 

No comments:

Post a comment