9 July 2015

Lyrics Of "O Re Bande" From Movie - Lahore (2010)

O Re Bande
O Re Bande
Lyrics Of O Re Bande From Movie - Lahore (2010): A Philosophical Song sung by Shilpa Rao, Rahat Fateh Ali Khan and music composed by M. M. Kreem.

Music: M. M. Kreem
Lyrics: Piyush Mishra
Star Cast: Aanaahad, Shraddha Das, Farooq Sheikh, Nafisa Ali, Shraddha Nigam, Saurabh Shukla, Aashish Vidyarthi, Mukesh Rishi.



The audio of this song is available on youtube at the channel CM Bollywood. This audio is of 8 minutes 03 seconds duration.

Lyrics of "O Re Bande"


ha iss kadar tha bekhabar
iss kadar tha bekhabar ke khamkha aazma liya
khamkha aazma liya
iss kadar tha bekhabar ke khamkha aazma liya
khamkha aazma liya
sau duaye baich kar, sau duayein baich kar
maathe ka bojha paa liya, maathe ka bojha
maathe ka bojha paa liya re
ore bande ore bande ore bande
ore bande ore bande ore bande
is kadar tha bekhabar ke khamkha aazma liya
khamkha aazma liya, aazma liya

aag ke chhidkav se yu aag bujhti hai nahi
aag ke chhidkav se yu aag bujhti hai nahi
ye iraada kyu kiya, ye iraada kyu kiya
aur kahe ko apna liya, maathe ka bojha
maathe ka bojha paa liya re
ore bande ore bande ore bande
ore bande ore bande ore bande

jis mand si muskan ke aage jhuki hain kudrate
jis mand si muskan ke aage jhuki hain kudrate
aage jhuki hain kudratye jis mand si muskaan ke
aage jhuki hain kudratye jis mand si muskaan ke
us mand si muskaan ko kyu khoon se nihla liya
maathe ka bojha
maathe ka bojha paa liya re
ore bande ore bande ore bande
ore bande ore bande ore bande
muddat hui yaar aise aankhe yun khoni khoni
sab rang chitay udenge dam bhar ko ik nind sona

aasu sametay jaa raha tha ore bande, ore bande
aur ghav botay jaa raha tha ore bande, ore bande
aasu sametay jaa raha tha ore bande, ore bande
aur ghav botay jaa raha tha ore bande, ore bande
falsafa tu dekh tune kis kadar uljha liya
falsafa tu dekh tune kis kadar uljha liya
dhai aakhar prem ki bas ek chithi padh zara
dhai aakhar prem ki bas ek chithi padh zara
mehsoos hoga ke khuda ne sar tera sehla liya
sar tera sehla liya, sar tera sehla liya
sar tera sehla liya
maathe ka bojha paa liya re
ore bande ore bande ore bande
ore bande ore bande ore bande

jaanta hai na kabhi kehla raha insaan hai
kahe ko uljha hai, ke tu jaanta anjaam hai
jaanta hai na kabhi kehla raha insaan hai
kahe ko uljha hai, ke tu jaanta anjaam hai
jaanta hai na kabhi kehla raha insaan hai
kahe ko uljha hai, ke tu jaanta anjaam hai ore bande 


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ओ रे बन्दे"


हां इस कदर था बेखबर
इस कदर था बेखबर के खामखां आजमा लिया
खामखां आजमा लिया
इस कदर था बेखबर के खामखां आजमा लिया
खामखां आजमा लिया
सौ दुआए बेच कर, सौ दुआए बेच कर
माथे का बोझा पा लिया, माथे का बोझा
माथे का बोझा पा लिया रे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
इस कदर था बेखबर के खामखां आजमा लिया
खामखां आजमा लिया, आजमा लिया

आग के छिडकाव से यु आग बुझती हैं नही
आग के छिडकाव से यु आग बुझती हैं नही
ये इरादा क्यू किया, ये इरादा क्यू किया
ओर काहे को अपना लिया, माथे का बोझा
माथे का बोझा पा लिया रे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे

जिस मंद सी मुस्कान के आगे झुकी हैं कुदरते
जिस मंद सी मुस्कान के आगे झुकी हैं कुदरते
आगे झुकी हैं कुदरते जिस मंद सी मुस्कान के
आगे झुकी हैं कुदरते जिस मंद सी मुस्कान के
उस मंद सी मुस्कान को क्यू खून से नहला दिया
माथे का बोझा
माथे का बोझा पा लिया रे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
मुद्द्त हुई यार ऐसे आँखे युही खोनी खोनी
सब रंग छीटे उड़ेंगे दम भर के एक नींद सोना

आसू समेटे जा रहा था ओरे बन्दे, ओरे बन्दे
और घाव बोते जा रहा था ओरे बन्दे ,ओरे बन्दे
आसू समेटे जा रहा था ओरे बन्दे, ओरे बन्दे
और घाव बोते जा रहा था ओरे बन्दे, ओरे बन्दे
फलसफा तू देख तूने किस कदर उलझा लिया
फलसफा तू देख तूने किस कदर उलझा लिया
ढाई आखर प्रेम की बस एक चिट्टी पढ़ जरा
ढाई आखर प्रेम की बस एक चिट्टी पढ़ जरा
महसूस होगा के खुदा ने सर तेरा सहला लिया
सर तेरा सहला लिया, सर तेरा सहला लिया
सर तेरा सहला लिया
माथे का बोझा पा लिया रे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे
ओरे बन्दे ओरे बन्दे ओरे बन्दे

जानता हैं ना कभी कहला रहा इंसान हैं
काहे को उलझा हैं, के तू जानता अंजाम हैं
जानता हैं ना कभी कहला रहा इंसान हैं
काहे को उलझा हैं, के तू जानता अंजाम हैं
जानता हैं ना कभी कहला रहा इंसान हैं
काहे को उलझा हैं, के तू जानता अंजाम हैं ओरे बन्दे



No comments:

Post a comment