14 July 2015

Lyrics Of "Roothe Roothe Sahab Mere" From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010)

Roothe Roothe Sahab Mere
Roothe Roothe Sahab Mere
Lyrics Of Roothe Roothe Sahab Mere From Movie - Muskurake Dekh Zara (2010): Nice romantic song in the voice of Sunidhi Chauhan and music composed by Ranjit Barot.

Singer: Sunidhi Chauhan
Music: Ranjit Barot
Lyrics: Mehboob Kotwal
Star Cast: Gashmir Mahajani, Twinkle Patel, Hiten Paintal, Sunil Sabarwal, Simran Suri.




The video of this song is available on youtube at the official channel T-Series. This video is of 3 minutes 38 seconds duration.


Lyrics of "Roothe Roothe Sahab Mere"


roothe roothe sahab mere
gusse pe hain kurbaan hum tere
roothe roothe sahab mere
gusse pe hain kurbaan hum tere
sun le rehbar mere
tumne hi ishq se milwaya
hume sabak pyaar ka padhwaya
aur aankh hami se ho phere
tumne hi ishq se milwaya
hume sabak pyaar ka padhwaya
aur aankh hami se ho phere
roothe roothe sahab mere

saat rang khwab hain
khwab mein aap hain ai mere humnawa
hai mehar dil mera
hukm hai aapka ai mere humnawa
kadamon mein tere ab hum thehrein
kadamon mein tere ab hum thehrein
hai teri mohabbat ke pehre
sun le rehbar mere
tumne hi ishq se milwaya
hume sabak pyaar ka padhwaya
aur aankh hami se ho phere
roothe roothe sahab mere

phool hai khaar hai
ose hai aag hai sang hai ishq ke
gum bhi hain hai khushi
ashq hai aur hassi rang hai ishq ke
har rang mein sang hai hum tere
har rang mein sang hai hum tere
chal saath saath lenge phere
sun le rehbar mere
tumne hi ishq se milwaya
hume sabak pyaar ka padhwaya
aur aankh hami se ho phere
roothe roothe sahab mere


Lyrics in Hindi (Unicode) of "रूठे रूठे साहब मेरे"



रूठे रूठे साहब मेरे
गुस्से पे हैं कुरबान हम तेरे
रूठे रूठे साहब मेरे
गुस्से पे हैं कुरबान हम तेरे
सुन ले रहबर मेरे
तुमने ही इश्क से मिलवाया
हमे सबक प्यार का पढवाया
और आँख हमी से हो फेरे
तुमने ही इश्क से मिलवाया
हमे सबक प्यार का पढवाया
और आँख हमी से हो फेरे
रूठे रूठे साहब मेरे

सात रंग ख्वाब हैं
ख्वाब मे आप हैं ए मेरे हमनवा
हैं महर दिल मेरा
हुक्म हैं आपका ए मेरे हमनवा
कदमो मे तेरे अब हम ठहरे
कदमो मे तेरे अब हम ठहरे
है तेरी मोहब्बत के फेरे
सुन ले रहबर मेरे
तुमने ही इश्क से मिलवाया
हमे सबक प्यार का पढवाया
और आँख हमी से हो फेरे
रूठे रूठे साहब मेरे

फूल हैं खार हैं
ओसे हैं आग हैं संग हैं इश्क के
गम भी हैं हैं ख़ुशी
अश्क हैं और हसी रंग हैं इश्क के
हर रंग मे संग हैं हम तेरे
हर रंग मे संग हैं हम तेरे
चल साथ साथ लेंगे फेरे
सुन ले रहबर मेरे
तुमने ही इश्क से मिलवाया
हमे सबक प्यार का पढवाया
और आँख हमी से हो फेरे
रूठे रूठे साहब मेरे

No comments:

Post a comment