9 July 2015

Lyrics Of "Wajood Ki Talash Hai" From Movie - Kuchh Kariye (2010)

Wajood Ki Talash Hai
Wajood Ki Talash Hai
Lyrics Of Wajood Ki Talash Hai From Movie - Kuchh Kariye (2010): A pop song sung by Mahalakshmi Iyer, Zubeen Garg, Navraj Hans and music composed by Onkar.

Music: Onkar
Lyrics: Salim Bijnauri
Star Cast:  Sukhwinder Singh, Vikrum Kumar, Rufy Khan, Shriya Saran, Khuahhish, Deepak Shirke, Mushtaq Khan, Surendra Pal.




Lyrics of "Wajood Ki Talash Hai"


wajood ki talash hai, wajood ki talash hai
samundaro ki pyas hai, jindagi pe sak nahi par
sanso pe bhi hak nahi hai, sabut mere pass hai
wajood ki talash hai, wajood ki talash hai
samundaro ki pyas hai, jindagi pe sak nahi par
sanso pe bhi hak nahi hai, sabut mere pass hai
wajood ki talash hai

aadhe aadhe batte huye the
dil ke bojh se dabe huye the
aadhe aadhe batte huye the
dil ke bojh se dabe huye the
raat ko bandh lo sarak na jaye
subah se kah do aaj na aaye
jane kaisa mod hai
na khus hai dil na udhas hai
wajood ki talash hai, wajood ki talash hai

tirchi tirchi bikhar gaye the
apni najar se utar gaye the
tirchi tirchi bikhar gaye the
apni najar se utar gaye the
tinka tinka tune sameta
jism bana ke mujhko lapeta
bichad ke bhi tu juda nahi hai
kahi to tujhme khuch kash hai
wajood ki talash hai, wajood ki talash hai
samundaro ki pyas hai, jindagi pe sak nahi par
sanso pe bhi hak nahi hai, sabut mere pass hai
wajood ki talash hai


Lyrics in Hindi (Unicode) of "वजूद की तलाश हैं"


वजूद की तलाश हैं, वजूद की तलाश हैं
समुन्दरो की प्यास हैं, जिंदगी पे सक नहीं पर
सांसो पे भी हक़ नहीं हैं, सबुत मेरे पास हैं
वजूद की तलाश हैं, वजूद की तलाश हैं
समुन्दरो की प्यास हैं, जिंदगी पे सक नहीं पर
सांसो पे भी हक़ नहीं हैं, सबुत मेरे पास हैं
वजूद की तलाश हैं

आधे आधे बटे हुए थे
दिल के बोझ से दबे हुए थे
आधे आधे बटे हुए थे
दिल के बोझ से दबे हुए थे
रात को बाँध लो सरक ना जाए
सुबह से कह दो आज ना आये
जाने कैसा मोड़ हैं
ना खुश हैं दिल ना उदास हैं
वजूद की तलाश हैं, वजूद की तलाश हैं

तिरछी तिरछी बिखर गए थे
अपनी नजर से उतर गए थे
तिरछी तिरछी बिखर गए थे
अपनी नजर से उतर गए थे
तिनका तिनका तूने समेटा
जिस्म बना के मुझको लपेटा
बिछड़ के भी तू जुदा नहीं हैं
कहीं तो तुझमे कुछ ख़ास हैं
वजूद की तलाश हैं, वजूद की तलाश हैं
समुन्दरो की प्यास हैं, जिंदगी पे सक नहीं पर
सांसो पे भी हक़ नहीं हैं, सबुत मेरे पास हैं
वजूद की तलाश हैं

No comments:

Post a comment