9 July 2015

Lyrics Of "Zameen Ko Cheer De" From Movie - Kuchh Kariye (2010)

Zameen Ko Cheer De
Zameen Ko Cheer De
Lyrics Of Zameen Ko Cheer De From Movie - Kuchh Kariye (2010): A motivational song sung by Sukhwinder Singh and music composed by Onkar.

Singer: Sukhwinder Singh
Music: Onkar
Lyrics: Salim Bijnauri
Star Cast:  Sukhwinder Singh, Vikrum Kumar, Rufy Khan, Shriya Saran, Khuahhish, Deepak Shirke, Mushtaq Khan, Surendra Pal.




Lyrics of "Zameen Ko Cheer De"


zameen ko cheer de aasmaa ko fadh de
zameen ko cheer de aasmaa ko fadh de
usulo ko parvaj de mushkile daag de
zameen ko cheer de aasmaa ko fadh de
gunaho ki daldal se aajad ho ja
gunaho ki daldal se aajad ho ja
sare masle niche reh jaye aise hain uthna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar vo buland itna

raste kal band the kitne
raste kal band the kitne soch pe paband the kitne
hatho ki lakir mita de khud apni taqdeer bana de
duniya me rang bhed mita de
ek nayi aawaz utha de
jab safar me chal hi pade to
jab safar me chal hi pade to kaisa hai rukhna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna

kaun si mitti ke bane hai
kaun si mitti ke bane hai
sab yaha to chikne ghade hai
angan ki diwar gira do suraj ko pura faila do
juthi har baisakhi hata do
sach ko fir pairo pe chala do
in kitabo me hum batt chuke hai
in kitabo me hum batt chuke hai ab na hai battna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
khud hi ko kar buland itna
zameen ko cheer de aasmaa ko fadh de
zameen ko cheer de aasmaa ko fadh de


Lyrics in Hindi (Unicode) of "जमीं को चीर दे"


जमीं को चीर दे आसमान को फाड़ के
जमीं को चीर दे आसमान को फाड़ के
उसूलो को परवाज दे मुश्किले दाग दे
जमीं को चीर दे आसमान को फाड़ के
गुनाहों के दलदल से आजाद हो जा
गुनाहों के दलदल से आजाद हो जा
सारे मसले निचे रह जाए ऐसे हैं उठना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर वो बुलंद इतना

रास्ते कल बंद थे कितने
रास्ते कल बंद थे कितने सोच पे पाबंद थे कितने
हाथो की लकीरे मिटा दे खुद अपनी तकदीर बना दे
दुनिया में रंग भेद मिटा दे
एक नई आवाज़ उठा दे
जब सफ़र में चल ही पड़े तो
जब सफ़र में चल ही पड़े तो कैसा हैं रुकना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना

कौन सी मिटटी के बने हैं
कौन सी मिटटी के बने हैं
सब यहाँ तो चिकने घड़े हैं
आँगन की दिवार गिरा दो सूरज को पूरा फैला दो
झुठी हर बैसाखी हटा दो
सच को फिर पैरो पे चला दो
इन किताबो में हम बट चुके हैं
इन किताबो में हम बट चुके हैं अब ना हैं बटना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
खुद ही को कर बुलंद इतना
जमीं को चीर दे आसमान को फाड़ के
जमीं को चीर दे आसमान को फाड़ के

No comments:

Post a comment