10 July 2015

Lyrics Of "Zarb-e-jeena" From Latest Album - Latifa (2015)

Zarb-e-jeena
Zarb-e-jeena
Lyrics Of Zarb-e-jeena From Album - Latifa (2015): A Philosophical Song sung by Vibha Saraf and music composed by Sachin Mittra.

Singer: Vibha Saraf
Music: Sachin Mittra
Lyrics: Siddhant Kaushal







The audio of this song is available on youtube at the channel Sachin Mittra. This audio is of 6 minutes 01 seconds duration.


Lyrics of "Zarb-e-jeena"


zarb-e-jeena, zarb-e-jeena dohraye zindagi
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena dohraye zindagi
beh gayi baraf jo kabhi jalti thi aag si
reh gayi raat hai abhi, banke bairaag si
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena dohraye zindagi

zooni zooni raaton mein dal pe
udti thi chidiya toh hum
zooni zooni raaton mein dal pe
udti thi chidiya toh hum
odha karte the naa shikaare mein
badan pe koi sharam
sholon ka dariya, jalta nazariya
pehle tha ab nahi, ab hai bas siyaahi
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena
mumkin, naa mumkin hua

saanse bharne ko, mausam guzarne ko
rukaa waqt kyun yahaan
nabzon ka chalna, girna sambhalna
tujhse tha ab nahi, ab hai bas duhaayi
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena thukraye zindagi
beh gayi baraf jo kabhi jalti thi aag si
reh gayi raat hai abhi, banke bairaag si

shaamo me thandi hawao ka maza lete yuhi
shaamo me thandi hawao ka maza lete yuhi
baithte chinar ki godi me rakh kar sar wahi
boondon ka jharna, baadal theharna
pehle tha ab nahi, ab hai bas sehraayi
zarb-e-jeena
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena dohraye zindagi
zarb-e-jeena, zarb-e-jeena dohraye zindagi


Lyrics in Hindi (Unicode) of "ज़र्ब-ए-जीना"


ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना दोहराए ज़िन्दगी
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना दोहराए ज़िन्दगी
बह गयी बरफ जो कभी जलती थी आग सी
रह गयी रात हैं अभी, बनके बैराग सी
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना दोहराए ज़िन्दगी

जूनी जूनी रातों मे डल पे
उडती थी चिड़ियाँ तो हम
जूनी जूनी रातों मे डल पे
उडती थी चिड़ियाँ तो हम
ओढा करते थे ना शिकारे मे
बदन पे कोई शरम
शोलो का दरियाँ, जलता नज़रियाँ
पहले था अब नहीं, अब हैं बस सियाही
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना
मुमकिन, ना मुमकिन हुआ

साँसे भरने को, मौसम गुजरने को
रुका वक़्त क्यूँ यहाँ
नब्जों का चलना, गिरना संभलना
तुझसे था अब नहीं, अब हैं बस दुहाई
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना ठुकराए ज़िन्दगी
बह गयी बरफ जो कभी जलती थी आग सी
रह गयी रात हैं अभी, बनके बैराग सी

शामो मे ठंडी हवाओं का मज़ा लेते युही
शामो मे ठंडी हवाओं का मज़ा लेते युही
बैठते चिनार की गोडी मे रख कर सर वहीँ
बूंदों का झरना, बादल ठहरना
पहले था अब नहीं, अब हैं बस सहराई
ज़र्ब-ए-जीना
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना दोहराए ज़िन्दगी
ज़र्ब-ए-जीना, ज़र्ब-ए-जीना दोहराए ज़िन्दगी

No comments:

Post a comment