1 August 2015

Lyrics Of "Kashmakash" From Movie - Listen Amaya (2013)

Kashmakash
Kashmakash
Lyrics Of Kashmakash From Movie - Listen Amaya (2013): A sad song in the voice of Kunal Ganjawala, featuring Farooq Sheikh, Deepti Naval, Swara Bhaskar

Music: Indraneel Hariharan
Lyrics: Punam Hariharan
Star Cast: Farooq Sheikh, Deepti Naval, Swara Bhaskar, Siddhant Karnick, Vidya Bhushan, Shadab khan.




The video of this song is available on YouTube at the official channel Rajshri. This video is of 3 minutes 52 seconds duration.

Lyrics of "Kashmakash"


kashmakash hai yahi kya karu kya nahi
kiski manu yaha dil kahi man kahi
rishte hasate hai kabhi kabhi ye gam ke aansu rulate
sapne dikhate hai kabhi kabhi ye nind se hai jagate
chalte chalte jhoko pe thahara thahara aasama
unchi unchi laharo me gahara gahara karava
sach hai kya jhuth kya kya daga kya yaki
kashmakash hai yahi kya karu kya nahi
kiski manu yaha dil kahi man kahi
kashmakash hai yahi kya karu kya nahi
kiski manu yaha dil kahi man kahi
kashmakash hai yahi haa kashmakash hai yahi
haa kashmakash hai yahi

apna banate hai kabhi kabhi
ye bhid me chhod jate chhod jate
duri mitate hai kabhi kabhi
ye duriya hai badhate duriya
ujale ujale aasma me kali kali badaliya
halke halke aasuo ki bhari bhari dasta
pas kya dur kya, kya gaya kya yahi
kashmakash hai yahi kya karu kya nahi
kiski manu yaha dil kahi man kahi
kashmakash hai yahi kya karu kya nahi
kiski manu yaha dil kahi man kahi
kashmakash hai yahi haa kashmakash hai yahi
haa kashmakash hai yahi kashmakash hai yahi

Lyrics in Hindi (Unicode) of "कश्मकश"


कश्मकश हैं यही क्या करू क्या नहीं
किसकी मानु यहाँ दिल कही मन कही
रिश्ते हसाते हैं कभी कभी ये गम के आंसू रुलाते
सपने दिखाते हैं कभी कभी ये नींद से हैं जगाते
चलते चलते झोको पे ठहरा ठहरा आसमा
ऊँची ऊँची लहरों में गहरा गहरा कारवा
सच हैं क्या झूठ क्या क्या दगा क्या यकी
कश्मकश हैं यही क्या करू क्या नहीं
किसकी मानु यहाँ दिल कही मन कही
कश्मकश हैं यही क्या करू क्या नहीं
किसकी मानु यहाँ दिल कही मन कही
कश्मकश हैं यही हाँ कश्मकश हैं यही
हा कश्मकश हैं यही

अपना बनाते हैं कभी कभी
ये भीड़ में छोड़ जाते छोड़ जाते
दुरी मिटाते हैं कभी कभी
ये दूरिया हैं बढाते दूरिया
उजले उजले आसमा मे काली काली बदलीया
हल्के हल्के आंसुओ की भारी भारी दास्ता
पास क्या दूर क्या, क्या गया क्या यही
कश्मकश हैं यही क्या करू क्या नहीं
किसकी मानु यहाँ दिल कही मन कही
कश्मकश हैं यही क्या करू क्या नहीं
किसकी मानु यहाँ दिल कही मन कही
कश्मकश हैं यही हा कश्मकश हैं यही
हा कश्मकश हैं यही कश्मकश हैं यही


No comments:

Post a comment