19 August 2015

Lyrics Of "Shukr Tera" From Movie - Samrat & Co. (2014)

Shukr Tera
Shukr Tera
Lyrics Of Shukr Tera From Movie - Samrat & Co. (2014): Beautiful love song in the melodious voice of Chinmayi Sripada, Arijit Singh featuring Rajeev Khandelwal, Madalasa Sharma.

Music: Mithoon
Lyrics: Mithoon
Star Cast: Rajeev Khandelwal, Madalasa Sharma, Gopal Datt, Girish Karnad, Priyanshu Chatterjee, Shreya Narayan.




The video of this song is available on youtube at the official channel Rajshri. This video is of 2 minutes 17 seconds duration.

Lyrics of "Shukr Tera"


kis tarah se shukar tera ab ada karu main
kis tarah se shukar tera ab ada karu main
iss mohabbat ka harjana kis tarah bharu main
khaamosh reh kar bhi keh gaye
dariya sa dil tak beh gaye
tum par ho raha hai pura aitbaar
tum hi ho hifaazat meri suno
ye kaha hai ruh ne
kis tarah se shukar tera ab ada karu main

hai ishq ka bas naam liya
maine samjha nahi tha ise
tune sikhaaya ki ye hai ibaadat
ruh ki bhasha hai yeh
teri badolat paayi woh daulat
jo mili na mujhko kahin
jazbaat hadd se badhne lage
dene lage sadaa tujhe
har pal hai zaruri ab tera deedar
kis tarah se shukr tera ab ada karu main
iss mohabbat ka harjana kis tarah bharu main

aisa kabhi dekha nahi
na kabhi bhi kahin suna
dene wala sab dekar bhi keh raha hai shukriya
tune hi to samjha mujhe
jo na keh saka mai, suna tumhe
ehsaan ye tera na bhulunga sadaa
kis tarah se shukar tera ab ada karu main
iss mohabbat ka harjana kis tarah bharu main

Lyrics in Hindi (Unicode) of "शुकर तेरा"


किस तरह से शुकर तेरा अब अदा करूँ मैं
किस तरह से शुकर तेरा अब अदा करूँ मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना किस तरह भरूं मैं
खामोश रह कर भी कह गये
दरिया सा दिल तक बह गये
तुम पर हो रहा है पूरा ऐतबार
तुम ही हो हिफाज़त मेरी सुनो
यह कहा है रूह ने
किस तरह से शुकर तेरा अब अदा करूँ मैं

है इश्क का बस नाम लिया
मैनें समझा नहीं था इसे
तूने सिखाया की ये है इबादत
रूह की भाषा है ये
तेरी बदौलत पाई वोह दौलत
जो मिली ना मुझको कहीं
जज़्बात हद से बढ़ने लगे
देने लगे सदा तुझे
हर पल है जरूरी अब तेरा दीदार
किस तरह से शुकर तेरा अब अदा करूँ मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना किस तरह भरूं मैं

ऐसा कभी देखा नहीं
ना कभी भी कहीं सुना
देने वाला सब देकर भी कह रहा है शुक्रिया
तूने ही तो समझा मुझे
जो ना कह सका मैं, सुना तुमने
एहसान ये तेरा ना भूलूँगा सदा
किस तरह से शुकर तेरा अब अदा करूँ मैं
इस मोहब्बत का हर्जाना किस तरह भरूं मैं


No comments:

Post a comment