25 November 2015

Lyrics Of "Udne Lagaa" From Latest Movie - Four Pillars Of Basement (2015)

Udne Lagaa
Udne Lagaa
Beautiful romantic song in the voice of Javed Ali featuring Dillzan Wadia, Aalya Singh.

Singer: Javed Ali
Music: Anurag Mohn
Lyrics: Pratyush Prakash
Star Cast: Dillzan Wadia, Zakir Hussain, Bruna Abdullah.




The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 4 minutes 26 seconds duration.

Lyrics of "Udne Lagaa"


tu hi hai aks mera tera hi pahlu main
banke laksh main tera tujhme hi rah lu main
ho tu hi hai aks mera tera hi pahlu main
banke laksh main tera tujhme hi rah lu main
lamha ye fir na mile inko na chhodu main
tujhko hi dhago mein bun lu main tujhko hi odhu main

chalte the rukate the pahle bhi kabhi
aashiya ka tha kya pata
raah gujarte tera jo saaya chhu liya
jaana beghar hai bas yahan
in hawao mein haa udne laga kyo bhala
dil ka khol diya kisne hai pinjra
in hawao mein haa udne laga kyo bhala
dil ka khol diya kisne hai pinjra
tu hi hai aks mera tera hi pahlu main
banke laksh main tera tujhme hi rah lu main
lamha ye fir na mile inko na chhodu main
tujhko hi dhago mein bun lu main tujhko hi odhu main

pahle kabhi jo tha likha aansuo ne mita diya
tujhse mila to panno ko rango se tere saja diya
khuli kitaabo si thi jindgi ye meri
kisi ne jo na tha chhua panno ko ab mere
jindagi mil gayi tune inhe jab se padha
in hawao mein haa udne laga kyo bhala
dil ka khol diya kisne hai pinjra
in hawao mein haa udne laga kyo bhala
dil ka khol diya kisne hai pinjra
tu hi hai aks mera tera hi pahlu main
banke laksh main tera tujhme hi rah lu main
lamha ye fir na mile inko na chhodu main
tujhko hi dhago mein bun lu main tujhko hi odhu main

Lyrics in Hindi (Unicode) of "उड़ने लगा"


तू ही है अक्स मेरा तेरा ही पहलू मैं
बनके लक्ष्य मैं तेरा तुझमें ही रह लूँ मैं
हो तू ही है अक्स तेरा तेरा ही पहलू मैं
बनके लक्ष्य मैं तेरा तुझमें ही रह लूँ मैं
लम्हा ये फिर ना मिले इनको ना छोडूँ मैं
तुझको ही धागों में बुन लूँ मैं तुझको ही ओढूं मैं

चलते थे रुकते थे पहले भी कभी
आशिया का था क्या पता
राह गुजरते तेरा जो साया छू लिया
जाना बेघर है बस यहाँ
इन हवाओं में हाँ उड़ने लगा क्यों भला
दिल का खोल दिया किसने है पिंजरा
इन हवाओं में हाँ उड़ने लगा क्यों भला
दिल का खोल दिया किसने है पिंजरा
तू ही अक्स मेरा तेरा ही पहलू मैं
बनके लक्ष्य मैं तेरा तुझमें ही रह लूँ मैं
लम्हा ये फिर ना मिले इनको ना छोडूँ मैं
तुझको ही धागों में बुन लूँ मैं तुझको ही ओढूं मैं

पहले कभी जो था लिखा आंसुओं ने मिटा दिया
तुझसे मिला तो पन्नों को यूँ रंगों से तेरे सजा दिया
खुली किताबों सी थी जिंदगी ये मेरी
किसी ने जो ना था छुआ पन्नों को अब मेरे
जिंदगी मिल गई तूने इन्हें जब से पढ़ा
इन हवाओं में हाँ उड़ने लगा क्यों भला
दिल का खोल दिया किसने है पिंजरा
इन हवाओं में हाँ उड़ने लगा क्यों भला
दिल का खोल दिया किसने है पिंजरा
तू ही अक्स तेरा ही पहलू मैं
बनके लक्ष्य मैं तेरा तुझमें ही रह लूँ मैं
लम्हा ये फिर ना मिले इनको ना छोडूँ मैं
तुझको ही धागों में बुन लूँ मैं तुझको ही ओढूं मैं 

 

No comments:

Post a comment