17 December 2015

Lyrics Of "Hasi" From Latest Album - Hasi (Rendition) (2015).

Hasi
Hasi
A combination of folk & romantic song sung by Sanah Moidutty, Arjun Kanungo and music composed by Arjun Kanungo, Ami Mishra.

Singer: Sanah Moidutty, Arjun Kanungo
Music: Arjun Kanungo, Ami Mishra.
Lyrics: Traditional, Arjun Kanungo, Kunal Verma
Featuring:  Sanah Moidutty, Arjun Kanungo




The video of this song is available on YouTube.

Lyrics of "Hasi"


raanjhanaa tainu chadd ke jaana
jogiya ve mahiya tere bina nai jeena
chaand chadh jati saare loki paye tak de
kande lag jaati kacha ghada ban ke
main aawangi hawaa ban ke
main aawangi hawaa ban ke
chaand chadh jati saare loki paye tak de
kande lag jaati kacha ghada ban ke
main aawangi hawaa ban ke
main aawangi hawaa ban ke

haan hasi ban gaye, haan nami ban gaye
tum mere aasmaan, meri zameen ban gaye
haan hasi ban gaye, haan nami ban gaye
tum mere aasmaan, meri zameen ban gaye

haan hum badalne lage, girne sambhalne lage
jab se hai jaana tumhe, teri ore chalne lage
haan hum badalne lage, girne sambhalne lage
jab se hai jaana tumhe, teri ore chalne lage
har safar har jagah haan wahin ban gaye
maante the khuda aur haan wahi ban gaye

pehchaante hi nahi ab log tanha mujhe
meri nigaaho mein bhi hai dhoondte wo tujhe
pehchaante hi nahi ab log tanha mujhe
meri nigaaho mein bhi hai dhoondte wo tujhe
har safar har jagah har kahin ban gaye
maante thhe khuda aur haan wahi ban gaye

chand chadh jaati saare loki paye takde
kande lag jaati kacha ghada ban ke
main aawangi hawa bann ke
main aawangi hawa bann ke
chand chadh jaati saare loki paye takde
kande lag jaati kacha ghada ban ke
main aawangi hawa bann ke
main aawangi hawa bann ke


Lyrics in Hindi (Unicode) of "हसी"


राँझना तैनू छड के जाना
जोगिया वे माहिया तेरे बिना नई जीना
चाँद चढ़ जाती सारे लोकी पाए तक दे
कंडे लग जाती कचा घड़ा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
चाँद चढ़ जाती सारे लोकी पाए तक दे
कंडे लग जाती कचा घड़ा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
मैं आवांगी हवा बन के

हाँ हसी बन गए, हाँ नमी बन गए
तुम मेरे आसमान, मेरी ज़मीन बन गए
हाँ हसी बन गए, हाँ नमी बन गए
तुम मेरे आसमान, मेरी ज़मीन बन गए

हाँ हम बदलने लगे, गिरने संभलने लगे
जब से हैं जाना तुम्हे, तेरी ओर चलने लगे
हाँ हम बदलने लगे, गिरने संभलने लगे
जब से हैं जाना तुम्हे, तेरी ओर चलने लगे
हर सफ़र हर जगह हाँ वही बन गए
मानते थे खुदा और हाँ वही बन गए

पहचानते ही नहीं अब लोग तनहा मुझे
मेरी निगाहों मे भी हैं ढूँढते वो तुझे
पहचानते ही नहीं अब लोग तनहा मुझे
मेरी निगाहों मे भी हैं ढूँढते वो तुझे
हर सफ़र हर जगह हर कही बन गए
मानते थे खुदा और हाँ वही बन गए

चाँद चढ़ जाती सारे लोकी पाए तक दे
कंडे लग जाती कचा घड़ा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
चाँद चढ़ जाती सारे लोकी पाए तक दे
कंडे लग जाती कचा घड़ा बन के
मैं आवांगी हवा बन के
मैं आवांगी हवा बन के

No comments:

Post a comment