28 March 2016

Lyrics Of "Ishq Anokha" From Latest Album - Ishq Anokha (Kailash Kher) (2016)

Ishq Anokha
Ishq Anokha
A beautiful love song in the voice of Kailash Kher featuring Miss India Earth 2013, Sobhita Dhulipala with Nawazuddin Siddiqui.

Singer: Kailash Kher
Music: Kailasa
Lyrics: Kailash Kher
Features: Nawazuddin Siddiqui, Sobhita Dhulipala




The video of this song is available on YouTube at the official channel Saregama GenY. This video is of 4 minutes 46 seconds duration.

Lyrics of "Ishq Anokha"


deh nain bin, chandra rain bin
dariya leher bina, sagar thehar bina
dariya leher bina, ho sagar thehar bina
hai tu nadiya madmati, tu hawa ban ithlati
hum dhoop ki chattane, tu hans hans phiglati
hai mera ishq anokha hai ri
hai mera ishq anokha hai ri
bas jatana nahi aata, ha batana nahi aata
hai mera ishq anokha hai ri
hai mera prem nirala hai ri
batlana nahi aata, samjhana nahi aata
mera ishq anokha hai ri

tere bin main, main tere bin
jaise deh bin pran he ri gora
hatheli pe rakh laaya jaan
tere bin main, main tere bin
jaise deh bin pran he ri gora
hatheli pe rakh laaya jaan

hai tu nadiya madmati, tu hawa ban ithlati
hum dhoop ki chattane, tu hans hans phiglati
hai mera ishq anokha hai ri
hai mera ishq anokha hai ri
bas jatana nahi aata, ha batana nahi aata
hai mera ishq anokha hai ri
hai mera prem nirala hai ri
batlana nahi aata
hey batlana nahi aata, samjhana nahi aata
hai mera ishq anokha hai ri
hai mera ishq anokha hai ri


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इश्क अनोखा"


देह नैन बिन, चन्द्र रैन बिन
दरिया लहर बिना, सागर ठहर बिना
दरिया लहर बिना, हो सागर ठहर बिना
हैं तू नदिया मदमाती, तू हवा बन इठलाती
हम धुप की चट्टानें, तू हँस हँस पिघलाती
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
बस जताना नहीं आता, हाँ बताना नहीं आता
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
हैं मेरा प्रेम निराला हैं री
बतलाना नहीं आता, समझाना नहीं आता
मेरा इश्क अनोखा हैं री

तेरे बिन मैं, मैं तेरे बिन
जैसे देह बिन प्राण हे री गोरा
हथेली पे रख लाया जान
तेरे बिन मैं, मैं तेरे बिन
जैसे देह बिन प्राण हे री गोरा
हथेली पे रख लाया जान

हैं तू नदिया मदमाती, तू हवा बन इठलाती
हम धुप की चट्टानें, तू हँस हँस पिघलाती
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
बस जताना नहीं आता, हाँ बताना नहीं आता
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
हैं मेरा प्रेम निराला हैं री
बतलाना नहीं आता
हे बतलाना नहीं आता, समझाना नहीं आता
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री
हैं मेरा इश्क अनोखा हैं री

No comments:

Post a comment