8 March 2016

Lyrics Of "Wo Shaam" From Latest Album - Wo Shaam (2016)

Wo Shaam
Wo Shaam
A ghazal sung and composed by Talat Aziz and lyrics penned by Gul Rukh Khan.

Singer: Talat Aziz
Music: Talat Aziz
Lyrics: Gul Rukh Khan
Features: Talat Aziz






The video of this song is available on YouTube at the official channel Venus. This video is of 5 minutes 56 seconds duration.

Lyrics of "Wo Shaam"


wo shaam bhala ab kyu yaado se nahi jaati
wo shaam bhala ab kyu yaado se nahi jaati
kadmo ki tere aahat raaho se nahi jaati
wo shaam bhala ab kyu yaado se nahi jaati
wo shaam bhala ab kyu

aur phir meri pukar sehraao ki aawaz ban gayi
lekin ab achanak is shise ki diwar me ek darar pad gayi
ab hum ek dusre ki aawaz sun paa rahe hai
lekin milna tasavvur me nahi samaata
hamari aawaze kya sada yunhi bhatka rahi hai
kya hamare kadam ghaas ke kisi farsh par
kabhi ek saath uth sakenge
kya hum kabhi kisi sahil ki ret par baithkar
samundar ki lehro ko khamoshi se sun sakenge
aur kya hum kabhi apne chehro par ek dusre
ki saanso ki aawaz mehsus kar sakenge, nahi na
phir tum kyu mere andar utarti ja rahe ho
phir kyu katra katra pighalte ja rahe ho mujhme

jis din tere hontho ne honth mere chume
jis din tere hontho ne honth mere chume
saanso ki tere garmi
saanso ki tere garmi saanso se nahi jaati
saanso ki tere garmi saanso se nahi jaati
kadmo ki tere aahat raaho se nahi jaati
wo shaam bhala ab kyu
wo shaam bhala ab kyu, wo shaam


Lyrics in Hindi (Unicode) of "वो शाम"


वो शाम भला अब क्यूँ यादो से नहीं जाती
वो शाम भला अब क्यूँ यादो से नहीं जाती
कदमो की तेरे आहट राहो से नहीं जाती
वो शाम भला अब क्यूँ यादो से नहीं जाती
वो शाम भला अब क्यूँ

और फिर मेरी पुकार सहराओं की आवाज़ बन गई
लेकिन अब अचानक इस शीशे की दिवार में एक दरार पड गई
अब हम एक दुसरे की आवाज़ सुन पा रहे हैं
लेकिन मिलना तसव्वुर में नहीं समाता
हमारी आवाज़े क्या सदा यूँही भटका रही हैं
क्या हमारे कदम घास के किसी फर्श पर
कभी एक साथ उठ सकेंगे
क्या हम कभी किसी साहिल की रेत पर बैठकर
समुन्दर की लहरों को ख़ामोशी से सुन सकेंगे
और क्या हम कभी अपने चेहरों पर एक दुसरे
की साँसों की आवाज़ महसूस कर सकेंगे, नहीं ना
फिर तुम क्यूँ मेरे अन्दर उतरती जा रहे हो
फिर क्यूँ कतरा कतरा पिघलते जा रहे हो मुझमे

जिस दिन तेरे होंठो ने होंठ मेरे चूमे
जिस दिन तेरे होंठो ने होंठ मेरे चूमे
साँसों की तेरे गरमी
साँसों की तेरे गरमी साँसों से नहीं जाती
साँसों की तेरे गरमी साँसों से नहीं जाती
कदमो की तेरे आहट राहो से नहीं जाती
वो शाम भला अब क्यूँ
वो शाम भला अब क्यूँ, वो शाम

No comments:

Post a comment