27 June 2016

Lyrics Of "Haan Gunahgaar Hun Ishq Karta Hun Main" From Latest Album - Haan Gunahgaar Hun Ishq Karta Hun Main (2016)

Haan Gunahgaar Hun Ishq Karta Hun Main
Haan Gunahgaar Hun Ishq Karta Hun Main
A sad love song sung and composed by Sayed Rahi Umair featuring him and Sharmin Kazi.

Singer: Sayed Rahi Umair
Music: Sayed Rahi Umair
Lyrics: Syed Gulrez
Features: Sharmin Kazi, Sayed Rahi Umair.





The video of this song is available on YouTube at the official channel Venus. This video is of 5 minutes 31 seconds duration.


Lyrics of "Haan Gunahgaar Hun Ishq Karta Hun Main"


raaste mit gaye manzile khul kho gayi, kho gayi
meri sanse bhi mujhse khafa ho gayi, ho gayi
dur tak bewajah yuhi chalta hu main
bhigi aankho se bas aahe bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main

koi shikwa nahi koi shikayat nahi
koi markar jiye ye nabayat nahi
jab wohi ab nahi main jiyu kis liye
zindagi ke bina zindagi kis liye
jab koi ab mera hamsafar hi nahi
raaste kyu rahe ye dagar kis liye
zarra zarra yuhi bikharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
o o oho

jab wajah hi nahi iltajaa kyu karu
aarju kis liye, dua kyu karu
tute khwabo ke tukde hai charo taraf
kyu uthhau inhe kis liye kya karu
dil ki dhadkan bhi unse hi mansub hai
ya rab is ke siva ab main kya karu
roj jeeta hu, roj marta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu bas ishq karta hu main
dur tak bewajah yuhi chalta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu, ishq karta hu main
bhigi aankho se bas aah bharta hu main
ha gunahgaar hu bas ishq karta hu main
gunahegar, gunahegar, gunahegar


Lyrics in Hindi (Unicode) of "हा गुनाहगार हु इश्क करता हु मैं"


रास्ते मिट गए मंजिले खुल खो गयी, खो गयी
मेरी सांसे भी मुझसे खफा हो गयी, हो गयी
दूर तक बेवजह युही चलता हु मैं
भीगी आँखों से बस आहे भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं

कोई शिकवा नहीं कोई शिकायत नहीं
कोई मरकर जिए ये नाबयत नहीं
जब वोही अब नहीं मैं जीयु किस लिए
ज़िन्दगी के बिना ज़िन्दगी किस लिए
जब कोई अब मेरा हमसफ़र ही नहीं
रास्ते क्यों रहे ये डगर किस लिए
ज़र्रा ज़र्रा युही बिखरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
ओ ओ ओहो

जब वजाह ही नहीं इल्तजा क्यों करू
आरजू किस लिए, दुआ क्यों करू
टूटे ख्वाबो के टुकड़े है चारो तरफ
क्यों उठाऊ इन्हें किस लिए क्या करू
दिल की धड़कन भी उनसे ही मनसुब है
या रब इस के सिवा अब मैं क्या करू
रोज जीता हु, रोज मरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु बस इश्क करता हु
दूर तक बेवजह युही चलता हु मैं
भीगी आँखों से बस आहे भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु, इश्क करता हु मैं
भीगी आँखों से बस आह भरता हु मैं
हा गुनाहगार हु बस इश्क करता हु मैं
गुनाहगार, गुनाहगार, गुनाहगार

No comments:

Post a comment