27 June 2016

Lyrics Of "Inteha Ho Gayi" From Latest Album - Inteha Ho Gayi (2016)

Inteha Ho Gayi
Inteha Ho Gayi
A playful song sung by Rahul Nambiar featuring him and Vartika Sharma in lead roles.

Singer: Rahul Nambiar
Music: Bappi Lahiri
Lyrics: Anjaan
Features: Rahul Nambiar, Vartika Sharma





The video of this song is available on YouTube at the official channel Saregama GenY. This video is of 4 minutes 43 seconds duration.

Lyrics of "Inteha Ho Gayi"


intaha ho gai, intazaar ki
aai na kuch khabar, mere yaar ki
ye hame hai yaqeen, bevafa vo nahi
phir vajah kya hui, intazaar ki

intaha ho gai, intazaar ki
aai na kuch khabar, mere yaar ki
ye hame hai yaqeen, bevafa vo nahi
phir vajah kya hui, intazaar ki, intazaar ki

gham ke andhere dhale, bujh gaye sitaare jale
dekha tujhe to dilo me jaan aai
hotho pe taraane saje, aramaan deewaane jage
baaho me aake tu aise sharamaai
chha gai phir vahi bekhudi
chha gai phir vahi bekhudi

baat jo hai us me baat vo yaha kahi nahi kisi me
vo hai meri bas hai meri, shor hai yahi gali gali me
ho saath saath vo hai mere gham me
mere dil ki har khushi me
zindagi me vo nahi to kuch nahi hai meri zindagi me
bujh na jaaye ye shama, aitabaar ki
intaha ho gai, intazaar ki
aai na kuch khabar, mere yaar ki
ye hame hai yaqeen, bevafa vo nahi
phir vajah kya hui, intazaar ki, intazaar ki
intazaar ki, intazaar ki, intazaar ki, intazaar ki


Lyrics in Hindi (Unicode) of "इन्तहा हो गई"


इन्तहा हो गई, इंतज़ार की
आय ना कुछ खबर, मेरे यार की
ये हमें है यकीन, बेवफा वो नहीं
फिर वजाह क्या हुई, इंतज़ार की

इन्तहा हो गई, इंतज़ार की
आय ना कुछ खबर, मेरे यार की
ये हमें है यकीन, बेवफा वो नहीं
फिर वजाह क्या हुई, इंतज़ार की, इंतज़ार की

ग़म के अँधेरे ढले, बुझ गए सितारे जले
देखा तुझे तो दिलो में जान आई
होठो पे तराने सजे, अरमान दीवाने जगे
बाहों में आके तू ऐसे शरमाई
छा गई फिर वही बेखुदी
छा गई फिर वही बेखुदी

बात जो है उस में बात वो यहाँ कही नहीं किसी में
वो है मेरी बस है मेरी, शोर है यही गली गली में
हो साथ साथ वो है मेरे ग़म में
मेरे दिल की हर ख़ुशी में
ज़िन्दगी में वो नहीं तो कुछ नहीं है मेरी ज़िन्दगी में
बुझ ना जाए ये शमा, ऐतबार की
इन्तहा हो गई, इंतज़ार की
आय ना कुछ खबर, मेरे यार की
ये हमें है यकीन, बेवफा वो नहीं
फिर वजाह क्या हुई, इंतज़ार की, इंतज़ार की
इंतज़ार की, इंतज़ार की, इंतज़ार की, इंतज़ार की

No comments:

Post a comment