30 June 2016

Lyrics Of "Raat Bhar Tanha Raha" From Latest Movie - Dil Toh Deewana Hai (2016)

Raat Bhar Tanha Raha
Raat Bhar Tanha Raha
A playful song sung by Pankaj Udhas featuring Haider Khan.

Singer: Pankaj Udhas
Music: Anand Raj Anand
Lyrics: Ibrahim Ashq
Star Cast: Haider Khan, Sadaa, Raj Babbar, Zeenat Aman, Sushmita Mukherjee, Alok Nath, Hemant Pandey, Shabnam Kapoor, Mohsin Khan, Gaurav Ghai, Shweta Giri, Meenu Bharadwaj.


The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 2 minutes 14 seconds duration.

Lyrics of "Raat Bhar Tanha Raha"


raat bhar tanha raha ho
raat bhar tanha raha, din bhar akela main hi tha
raat bhar tanha raha, din bhar akela main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
raat bhar tanha raha, din bhar akela main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha

mai hi dariya mai hi tufan, mai hi tha har mauj bhi
mai hi dariya mai hi tufan, mai hi tha har mauj bhi
mai hi dariya mai hi tufan, mai hi tha har mauj bhi
mai hi khud ko pi gaya
mai hi khud ko pi gaya, sadiyo se pyasa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha

meri aahat sun ne wala dil na tha duniya ke paas
meri aahat sun ne wala dil na tha duniya ke paas
meri aahat sun ne wala dil na tha duniya ke paas
sab ki aahat sab ki dhadakan
sab ki aahat sab ki dhadakan sun ne wala main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha

kisliye katra ke jaata aye musafir dum to le
kisliye katra ke jaata aye musafir dum to le
kisliye katra ke jaata aye musafir dum to le
aaj sukha ped hu
aaj sukha ped hu kal tera saaya main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
raat bhar tanha raha, din bhar akela main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha
shehar ki aabadiyo me apne jaisa main hi tha


Lyrics in Hindi (Unicode) of "रात भर तनहा रहा"


रात भर तनहा रहा हो
रात भर तनहा रहा, दिन भर अकेला मैं ही था
रात भर तनहा रहा, दिन भर अकेला मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
रात भर तनहा रहा, दिन भर अकेला मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था

मैं ही दरिया मैं ही तूफान, मैं ही था हर मौज भी
मैं ही दरिया मैं ही तूफान, मैं ही था हर मौज भी
मैं ही दरिया मैं ही तूफान, मैं ही था हर मौज भी
मैं ही खुद को पि गया
मैं ही खुद को पि गया, सदियों से प्यासा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था

मेरी आहट सुन ने वाला दिल ना था दुनिया के पास
मेरी आहट सुन ने वाला दिल ना था दुनिया के पास
मेरी आहट सुन ने वाला दिल ना था दुनिया के पास
सब की आहट सब की धड़कन
सब की आहट सब की धड़कन सुन ने वाला मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था

किसलिए कतरा के जाता ए मुसाफिर दम तो ले
किसलिए कतरा के जाता ए मुसाफिर दम तो ले
किसलिए कतरा के जाता ए मुसाफिर दम तो ले
आज सुखा पेड़ हूँ
आज सुखा पेड़ हूँ कल तेरा साया मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
रात भर तनहा रहा, दिन भर अकेला मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था
शहर की आबादियों में अपने जैसा मैं ही था

No comments:

Post a comment