28 June 2016

Lyrics Of "Sachi Muchi" From Salman Khan's Latest Movie - Sultan (2016)

Sachi Muchi
Sachi Muchi
A happy song sung by Mohit Chauhan, Harshdeep Kaur featuring Anushka Sharma and Salman Khan.

Singer: Mohit Chauhan, Harshdeep Kaur
Music: Vishal Shekhar
Lyrics: Irshad Kamil
Star Cast: Salman Khan, Anushka Sharma, Amit Sadh, Randeep Hooda, Urvashi Rautela.




Lyrics of "Sachi Muchi"


main gapp na koi maaru, naa baat bolunga kachi
2-3 saal se mujhko, tu lagi laagne achi, o hu
tu jaan hai sachi muchi
main gapp na koi maaru, jo baat bolungi sachi
main nakhrili si chori, hoon saath hi tere achi, oo
tu jaan hai sachi muchi

o baat ansuni hai, pyar se buni hai
aaj doguni hai aarzu
ye khwaab hain chahate, ya mere dil ki aawaze
jaanti hai tu, tere kehne se li maine parvaze
ye khwaab hain chahate, ya mere dil ki aawaze
jaanti hai tu, tere kehne se li maine parvaze
main gapp na koi maaru, jo baat bolungi sachi
main nakhrili si chori, hoon saath hi tere achi, oo
tu jaan hai sachi muchi

leja waha tera jaha pe ho jaha
maine ye de di hai zubaa, Chalta jaaunga
subah ko main laaunga hontho pe hansi
shaamo ko baato me teri, dhalta jaaunga
main raj ke chahu tujhko, le ishq main tere nachchi
le chhad akkal ki baatein, phir aaj hogayi bachchi, oo
tu jaan hai sachi muchi
o baat ansuni hai, pyar se buni hai
aaj doguni hai aarzu
ye khwaab hain chahate, ya mere dil ki aawaze
jaanti hai tu, tere kehne se li maine parvaze
ye khwaab hain chahate, ya mere dil ki aawaze
jaanti hai tu, tere kehne se li maine parvaze


Lyrics in Hindi (Unicode) of "सच्ची मुच्ची"


मैं गप्प ना कोई मारू, ना बात बोलूँगा कछी
२-३ साल से मुझको, तू लगी लागने अच्छी, ओ हु
तू जान है सच्ची मुच्ची
मैं गप्प ना कोई मारू, जो बात बोलूँगी सच्ची
मैं नखरीली सी छोरी, हूँ साथ ही तेरे अच्छी, ओओ
तू जान है सच्ची मुच्ची

ओ बात अनसुनी है, प्यार से बुनी है
आज दोगुनी है आरजू
ये ख्वाब हैं चाहते, या मेरे दिल की आवाज़े
जानती है तू, तेरे कहने से ली मैंने परवाज़े
ये ख्वाब हैं चाहते, या मेरे दिल की आवाज़े
जानती है तू, तेरे कहने से ली मैंने परवाज़े
मैं गप्प ना कोई मारू, ना बात बोलूँगी सच्ची
मैं नखरीली सी छोरी, हूँ साथ ही तेरे अच्छी, ओओ
तू जान है सच्ची मुच्ची

लेजा वहा तेरा जहा पे हो जहा
मैंने ये दे दी है जुबा, चलता जाऊँगा
सुबह को मैं लाऊंगा होंठो पे हंसी
शामो को बातो में तेरी, ढलता जाऊँगा
मैं राज के चाहू तुझको, ले इश्क मैं तेरे नच्ची
ले छड अक्कल की बाते, फिर आज होगई बच्ची, ओओ
तू जान है सच्ची मुच्ची
ओ बात अनसुनी है, प्यार से बुनी है
आज दोगुनी है आरजू
ये ख्वाब हैं चाहते, या मेरे दिल की आवाज़े
जानती है तू, तेरे कहने से ली मैंने परवाज़े
ये ख्वाब हैं चाहते, या मेरे दिल की आवाज़े
जानती है तू, तेरे कहने से ली मैंने परवाज़े

No comments:

Post a comment