28 June 2016

Lyrics Of "Sultan (Title Song)" From Salman Khan's Latest Movie - Sultan (2016)

Sultan (Title Song)
Sultan (Title Song)
A title song sung by Sukhwinder Singh, Shadab Faridi featuring Anushka Sharma, Salman Khan, Randeep Hooda

Singer: Mohit Chauhan, Harshdeep Kaur
Music: Vishal Shekhar
Lyrics: Irshad Kamil
Star Cast: Salman Khan, Anushka Sharma, Amit Sadh, Randeep Hooda, Urvashi Rautela.



The video of this song is available on YouTube at the official channel YRF. This video is of 2 minutes 21 seconds duration.

Lyrics of "Sultan (Title Song)"


kismat jo aave saamne, tu mod de uska panja re
kismat jo aave saamne, tu mod de uska panja re
chal mod de uska panja re
saat aasmaan cheere, ab saat samandar phere
chal saat suron me karde ye elaan
himmat hai toh roko, aur zurrat hai toh baato
re aaj hatheli pe rakhdi hai jaan
khoon me tere mitti, mitti me tera khoon
khoon me tere mitti, mitti me tera khoon
upar allah niche dharti, beech me tera junoon
re sultan

seene me tere aag, paani, aandhi hai
mehnat ki dori honslo se baandhi hai
o seene me tere aag, paani, aandhi hai
mehnat ki dori honslon se baandhi hai
hai parvat bhi tu hi, aur tu hi pathar hai
jo chahe tu wo hi ban jaye, teri marzi hai
aansu aur paseena, are hai toh dono paani
par mod ke rakh de dono hi tufaa
chot ho jitni gehri, ya thes jigar me thehri
toh jazbaa utna zehri hai ye maan

noor-e-sukoo niyat se junoo
ye tujhko pata hai, tujhme chhupa hai
tu usko le, usko le pehchaan
tera iraada tujhse bhi zyaada
usko pata hai jo lapata hai
tu itna le, itna le ab maan
woh dil me hai tere, tu uski nazro me
chal hadd se aage re
chaha jo tune wo paane, chal banja re sultan
saat aasmaan cheere, ab saat samandar peere
chal saat suron me karde ye elaan
khoon me tere mitti, mitti me tera khoon
khoon me tere mitti, mitti me tera khoon
upar allah niche dharti, beech me tera junoon
re sultan

saat aasmaan cheere, ab saat samandar peere
chal saat suron me karde ye elaan
himmat hai toh roko, aur zurrat hai toh baato
re aaj hatheli pe rakhdi hai jaan



Lyrics in Hindi (Unicode) of "सुलतान (टाइटल सोंग)"


किस्मत जो आवे सामने, तू मोड़ दे उसका पंजा रे
किस्मत जो आवे सामने, तू मोड़ दे उसका पंजा रे
चल मोड़ दे उसका पंजा रे
सात आसमान चीरे, अब साथ समंदर फिरे
चल सात सुरों में करदे ये एलान
हिम्मत है तो रोको, और जुर्रत है तो बातो
रे आज हथेली पे रखदी है जान
खून में तेरे मिटटी, मिटटी में तेरा खून
खून में तेरे मिटटी, मिटटी में तेरा खून
ऊपर अल्लाह निचे धरती, बीच में तेरा जूनून
रे सुलतान

सीने में तेरे आज, पानी, आंधी है
मेहनत की डोरी होंसलो से बाँधी है
ओ सीने में तेरे आग, पानी, आंधी है
मेहनत की डोरी होंसलों से बाँधी है
है पर्वत भी तू ही, और तू ही पत्थर है
जो चाहे तू वो ही बन जाये, तेरी मर्ज़ी है
आंसू और पसीना, अरे है तो दोनों पानी
पर मोड़ के रख दे दोनों ही तुफा
चोट हो जितनी गहरी, या ठेस जिगर में ठहरी
तो जज्बा उतना ज़हरी है ये मान

नूर-ए-सुकू नियत से जूनून
ये तुझको पता है, तुझमे छुपा है
तू उसको ले, उसको ले पहचान
तेरा इरादा तुझसे भी ज्यादा
उसको पता है जो लापता है
तू इतना ले, इतना ले अब मान
वो दिल में है तेरे, तू उसकी नजरो में
चल हद्द से आगे रे
चाहा जो तूने वो पाने, चल बनजा रे सुलतान
सात आसमान चीरे, अब साथ समंदर फिरे
चल सात सुरों में करदे ये एलान
खून में तेरे मिटटी, मिटटी में तेरा खून
खून में तेरे मिटटी, मिटटी में तेरा खून
ऊपर अल्लाह निचे धरती, बीच में तेरा जूनून
रे सुलतान

सात आसमान चीरे, अब साथ समंदर फिरे
चल सात सुरों में करदे ये एलान
हिम्मत है तो रोको, और जुर्रत है तो बातो
रे आज हथेली पे रखदी है जान

No comments:

Post a comment