22 September 2016

Lyrics Of "Dil Me Kayi Armaan" From Latest Movie - Yeh Hai Judgement Hanged Till Death (2016)

Dil Me Kayi Armaan
Dil Me Kayi Armaan
A sad song sung by Aman Trikha starring Nishant Kumar, Neetu Wadhwa, Gulshan Tushir.

Singer: Aman Trikha
Music: Mahesh Rakesh
Lyrics: Rakesh Kharvi
Star Cast: Nishant Kumar, Neetu Wadhwa, Gulshan Tushir




The video of this song is available on YouTube at the official channel Zee Music Company. This video is of 2 minutes 04 seconds duration.

Lyrics of "Dil Me Kayi Armaan"


dil me kayi armaan bikhre huye hai
yaado ki chaadar me lipte huye hai
zindagi yeh jaise tham si gayi hai
zinda hu main phir bhi kiske liye
dil me kayi armaan bikhre huye hai
yaado ki chaadar me lipte huye hai
zindagi yeh jaise tham si gayi hai
zinda hu main phir bhi kiske liye

kaisa ye sagar kinara nahi, mujhko kisi ka sahara nahi
kaisa ye sagar kinara nahi, mujhko kisi ka sahara nahi
sapne yu tute hai, apne yu ruthe hai
sapne yu tute hai, apne yu ruthe hai jaau toh jaau kaha
dil me kayi armaan bikhre huye hai
yaado ki chaadar me lipte huye hai
zindagi yeh jaise tham si gayi hai
zinda hu main phir bhi kiske liye

aisa andhera ujala nahi, hu is jahan me akela kahi
aisa andhera ujala nahi, hu is jahan me akela kahi
rasta toh dikhla de, thoda reham kar de
rasta toh dikhla de, thoda reham kar de mujhpe o mere khuda
dil me kayi armaan bikhre huye hai
yaado ki chaadar me lipte huye hai
zindagi yeh jaise tham si gayi hai
zinda hu main phir bhi kiske liye
dil me kayi armaan bikhre huye hai
yaado ki chaadar me lipte huye hai
zindagi yeh jaise tham si gayi hai
zinda hu main phir bhi kiske liye


Lyrics in Hindi (Unicode) of "दिल में कई अरमान"


दिल में कई अरमान बिखरे हुए हैं
यादो की चादर में लिपटे हुए हैं
ज़िन्दगी ये जैसे थम सी गई हैं
जिंदा हूँ मैं फिर भी किसके लिए
दिल में कई अरमान बिखरे हुए हैं
यादो की चादर में लिपटे हुए हैं
ज़िन्दगी ये जैसे थम सी गई हैं
जिंदा हूँ मैं फिर भी किसके लिए

कैसा ये सागर किनारा नहीं, मुझको किसी का सहारा नहीं
कैसा ये सागर किनारा नहीं, मुझको किसी का सहारा नहीं
सपने यूँ टूटे हैं, अपने यूँ रूठे हैं
सपने यूँ टूटे हैं, अपने यूँ रूठे हैं जाऊ तो जाऊ कहा
दिल में कई अरमान बिखरे हुए हैं
यादो की चादर में लिपटे हुए हैं
ज़िन्दगी ये जैसे थम सी गई हैं
जिंदा हूँ मैं फिर भी किसके लिए

ऐसा अँधेरा उजाला नहीं, हूँ इस जहाँ में अकेला कही
ऐसा अँधेरा उजाला नहीं, हूँ इस जहाँ में अकेला कही
रस्ता तो दिखला दे, थोडा रहम कर दे
रस्ता तो दिखला दे, थोडा रहम कर दे मुझपे ओ मेरे खुदा
दिल में कई अरमान बिखरे हुए हैं
यादो की चादर में लिपटे हुए हैं
ज़िन्दगी ये जैसे थम सी गई हैं
जिंदा हूँ मैं फिर भी किसके लिए
दिल में कई अरमान बिखरे हुए हैं
यादो की चादर में लिपटे हुए हैं
ज़िन्दगी ये जैसे थम सी गई हैं
जिंदा हूँ मैं फिर भी किसके लिए

No comments:

Post a comment